गाना / Title: कभी कभी मेरे दिल में Sahir's Talkhiiyaan - kabhii kabhii mere dil me.n ##Sahir's Talkhiiyaan##

चित्रपट / Film: Kabhi Kabhi

संगीतकार / Music Director: Khaiyyam

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): अमिताभ बच्चन-(Amitabh Bachchan)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



Sahir's Talkhiyaan 
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है
कि ज़िंदगी तेरी ज़ुल्फ़ों की नर्म छाओं में 
गुज़रने पाती तो शादाब हो भी सकती थी 
यह तिरागी जो मेरे ज़ीस्त का मुकद्दर है
तेरी नज़र की शुआँओं में खो भी सकती थी
bigskip%
अजब न था कि मैं बेगाना-ए-आलम हो कर
तेरे जमाल की रानाइयों में खो रहता 
तेरा गुद्दाज़ बदन, तेरी नीमबाज़ आँखें
इन्हीं हसीन फ़ज़ाओं में मैं हो रहता
bigskip%
पुकारतीं मुझे जब तलख़ियाँ ज़माने की
तेरे लबों से हलावत के घूँट पी लेता 
हयात चीखती फिरती बरेहना-सर और मैं
घनेरी ज़ुल्फ़ों की छाओं में छुप के जी लेता 
bigskip%
मगर ये हो न सका
मगर ये हो न सका और अब ये आलम है 
कि तू नहीं, तेरा ग़म, तेरी जुस्तुज़ू भी नहीं 
गुज़र रही है कुछ इस तरह ज़िंदगी जैसे 
इसे किसी के सहारे की आरज़ू भी नहीं
bigskip%
ज़माने भर के दुखों को लगा चुका हूँ गले
गुज़र रहा हूँ कुछ अनजानी रहगुज़ारों से
मुहीब साये मेरी सिमट भरते आते हैं
हयात-ओ-मौत के पर-हाल खार-ज़ारों से 
bigskip%
न कोई जदा, न मंज़िल, न रोशनी का सुराग
भटक रही है ख़यालों में ज़िंदगी मेरी 
इन्हीं ख़यालों में रह जाऊँगा कभी खो कर
मैं जानता हूँ मेरे हम-नफ़स, मगर यूँ हीं
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

## Sahir's Talkhiyaan ##
kabhii kabhii mere dil me.n Kayaal aataa hai
ki zi.ndagii terii zulfo.n kii narm chhaao.n me.n 
guzarane paatii to shaadaab ho bhii sakatii thii 
yah tiraagii jo mere zIst kaa mukaddar hai
terii nazar kii shuaa.No.n me.n kho bhii sakatii thii
bigskip%
ajab na thaa ki mai.n begaanaa-e-aalam ho kara
tere jamaal kii raanaaiyo.n me.n kho rahataa 
teraa gud.hdaaz badana, terii niimabaaz aa.Nkhe.n
inhii.n hasiin fazaao.n me.n mai.n ho rahataa
bigskip%
pukaaratii.n mujhe jab talaKiyaa.N zamaane kii
tere labo.n se halaavat ke ghuu.NT pii letaa 
hayaat chiikhatii phiratii barehanaa-sara aur mai.n
ghanerii zulfo.n kii chhaao.n me.n chhup ke jii letaa 
bigskip%
magar ye ho na sakaa
magar ye ho na sakaa aur ab ye aalam hai 
ki tuu nahii.n, teraa Gama, terii justuzuu bhii nahii.n 
guzar rahii hai kuchh is tarah zi.ndagii jaise 
ise kisii ke sahaare kii aarazuu bhii nahii.n
bigskip%
zamaane bhar ke dukho.n ko lagaa chukaa huu.N gale
guzar rahaa huu.N kuchh anajaanii rahaguzaaro.n se
muhiib saaye merii simaT bharate aate hai.n
hayaat-o-maut ke par-haal khaar-zaaro.n se 
bigskip%
na koii jadaa, na ma.nzila, na roshanii kaa suraag
bhaTak rahii hai Kayaalo.n me.n zi.ndagii merii 
inhii.n Kayaalo.n me.n rah jaauu.Ngaa kabhii kho kara
mai.n jaanataa huu.N mere ham-nafasa, magar yuu.N hii.n
kabhii kabhii mere dil me.n Kayaal aataa hai