गाना / Title: मुहब्बत बड़े काम की चीज़ है - muhabbat ba.De kaam kii chiiz hai

चित्रपट / Film: Trishul

संगीतकार / Music Director: Khaiyyam

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)किशोर कुमार-(Kishore Kumar)Yesudas

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



हर तरफ़ हुस्न और जवानी है, आजकी रात क्या सुहानी है
रेशमी जिस्म थरथराते हैं, मरमरी होंठ गुनगुनाते हैं 
धड़कनों मैं सुरूर फैला है, रंग नजदीक-ओ-दूर फैला है 
दावत-ए-इश्क़ दे राही है फ़ज़ा, आज हो जा किसी हसीं पे फ़िदा 

कि: मुहब्बत बड़े काम की चीज़ है, काम की चीज़ है 
मुहब्बत के दम से है दुनिया ये रोशन 
मुहब्बत ना होती तो कुछ भी ना होता 
नजर और दिल की पनाहों की खातिर 
ये जन्नत ना होती तो कुछ भी ना होता 
यही एक आराम की चीज़ है, काम की चीज़ है
मुहब्बत बड़े काम की चीज़ है, काम की चीज़ है

ये: किताबों में छपते है, चाहत के किस्से
हक़ीकत की दुनिया में चाहत नहीं
ज़माने के बाज़ार में, ये वो शह है 
के जिसकी किसीको, ज़रूरत नहीं है
ये बेकार बेदाम की चीज़ है, नाम की चीज़ है

कि: ये कुदरत के ईनाम की चीज़ है 
मुहब्बत से इतना खफ़ा होने वाले
चल आ आज तुझको मुहब्बत सिखा दे 
तेरा दिल जो बरसों से वीरां पड़ा है 
किसी नाज़नीनां को इसमे बसा दें 
मेरा मशवरा काम की चीज़ है, काम की चीज़ है 
मुहब्बत बड़े काम की चीज़ है, काम की चीज़ है



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

har taraf husn aur javaanii hai, aajakii raat kyaa suhaanii hai
reshamii jism tharatharaate hai.n, maramarii ho.nTh gunagunaate hai.n 
dha.Dakano.n mai.n suruur phailaa hai, ra.ng najadiik-o-duur phailaa hai 
daavat-e-ishq de rAhI hai fazaa, aaj ho jaa kisii hasii.n pe fidaa 

ki: muhabbat ba.De kaam kii chiiz hai, kaam kii chiiz hai 
muhabbat ke dam se hai duniyaa ye roshan 
muhabbat nA hotI to kuchh bhI naa hotA 
najar aur dil kii panaaho.n kii khaatir 
ye jannat nA hotI to kuchh bhI naa hotaa 
yahii ek aaraam kii chiiz hai, kaam kii chiiz hai
muhabbat ba.De kaam kii chiiz hai, kaam kii chiiz hai

ye: kitaabo.n me.n chhapate hai, chaahat ke kisse
haqIkat kii duniyA me.n chaahat nahii.n
zamaane ke baazaar me.n, ye vo shah hai 
ke jisakii kisIko, zaruurat nahii.n hai
ye bekaar bedaam kii chiiz hai, naam kii chiiz hai

ki: ye kudarat ke Inaam kii chiiz hai 
muhabbat se itanaa khafaa hone vaale
chal aa aaj tujhako muhabbat sikhaa de 
teraa dil jo baraso.n se viiraa.n pa.Daa hai 
kisii nAzaniinaa.n ko isame basaa de.n 
meraa mashavaraa kaam kii chiiz hai, kaam kii chiiz hai 
muhabbat ba.De kaam kii chiiz hai, kaam kii chiiz hai