गाना / Title: आह को चाहिए एक उम्र असर होने तक - aah ko chaahie ek umr asar hone tak

चित्रपट / Film: Mirza Ghalib

संगीतकार / Music Director: Ghulam Mohammad

गीतकार / Lyricist: मिर्ज़ा गालिब-(Mirza Ghalib)

गायक / Singer(s): Suraiyya

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
आह को चाहिए एक उम्र असर होने तक
कौन जीता है तेरे ज़ुल्फ़ के सर होने तक

आशिक़ी सब्र तलब और तमन्ना बेताब
दिल का क्या रँग करूँ खून-ए-जिगर होने तक

हम ने माना के तग़कुल न करोगे लेकिन
खाक हो जाएंगे हम तुम को खबर होने तक

ग़म-ए-हस्ती का 'असद' किससे हो कुज़-मर्ग-ए-इलाज
शमा हर रँग में जलती है सहर होने तक

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
aah ko chaahie ek umr asar hone tak
kaun jiitaa hai tere zulf ke sar hone tak

aashiqii sabr talab aur tamannaa betaab
dil kaa kyaa ra.Ng karuu.N khuun-e-jigar hone tak

ham ne maanaa ke taGakul na karoge lekin
khaak ho jaae.nge ham tum ko khabar hone tak

Gam-e-hastii kaa 'asad' kisase ho kuz-marg-e-ilaaj
shamaa har ra.Ng me.n jalatii hai sahar hone tak

Related content: