LyricsIndia.net

Hey, want to try making your own Karaoke from any youtube track? Check out some samples on our new beta website Pruthak (which means 'to separate') to split a track into vocals, drums, bass, piano!

गाना / Title: ख़त लिखना है, पर सोचती हूँ - Khat Likhna Hai (Khel)

चित्रपट / Film: खेल-(Khel)

संगीतकार / Music Director: Rajesh Roshan

गीतकार / Lyricist: जावेद अख्तर-(Javed Akhtar)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)Mohammed Ajiz

शेअर करें / Share Page

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
लता :
ख़त लिखना है, पर सोचती हूँ (2)
ये कैसे लिखूँ, मुझे तुमसे मुहब्बत हो गई है
मुझे तुमसे मुहब्बत हो गई है
अज़ीज़ :
मेरी मानो, इतना लिख दो  (2)
इन आँखों पर, ख़्वाबों की इनायत हो गई है
ख़्वाबों की इनायत हो गई है

लता :
काग़ज़-कलम जैसे ही उठाऊँ, दिल है कि धड़के जाए
हाँऽ दिल है कि धड़के जाए
अज़ीज़ :
जो भी लिखो तुम, दिल की बातें अब न छुपेंगी छुपाए
हाँऽ अब न छुपेंगी छुपाए
लता :
मैं अच्छी हूँ, ये तो लिख दूँ   (2)
ये कैसे लिखूँ, मुझे तुमसे मुहब्बत हो गई है
मुझे तुमसे मुहब्बत हो गई है

लता :
ये सोचा है, इतना लिख दूँ, कुछ दिन से मुझे, क्या जाने क्यूँ
ये दुनिया हसीं लगती है (2)
अज़ीज़ :
ये भी लिखना, अब सारे दिन, है साथ कोई, कि जिसके बिन
तबीयत ही नहीं लगती है (2)
लता :
बताओ, बताओ, किन लफ़्ज़ों में मैं ये लिखूँ, मुझको तुम समझाओ
मुझे तुमसे मुहब्बत हो गई है
मुझे तुमसे मुहब्बत हो गई है

लता :
मैं कुछ लिखूँ वो कुछ समझे, ऐसा नहीं हो जाए
हाँऽ ऐसा नहीं हो जाए
अज़ीज़ :
ऐसा है तो साफ़ लिखो तुम, अपनी तो है ये राय
हाँऽ अपनी तो है ये राय
लता :
हाँ सच तो है, क्यूँ शरमाऊँ (2)
क्यूँ ये न लिखूँ, मुझे तुमसे मुहब्बत हो गई है
अज़ीज़ :
तो लिख दो मुहब्बत हो गई है
लता :
लिख दूँगी मुहब्बत हो गई है
अज़ीज़ :
मुझे तुमसे मुहब्बत हो गई है
लता :
मुझे तुमसे मुहब्बत हो गई है

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
lataa :
Kat likhanaa hai, par sochatii huu.N (2)
ye kaise likhuu.N, mujhe tumase muhabbat ho ga_ii hai
mujhe tumase muhabbat ho ga_ii hai
aziiz :
merii maano, itanaa likh do  (2)
in aa.Nkho.n par, Kvaabo.n kii inaayat ho ga_ii hai
Kvaabo.n kii inaayat ho ga_ii hai

lataa :
kaaGaz-kalam jaise hii uThaa_uu.N, dil hai ki dha.Dake jaa_e
haa.N.a dil hai ki dha.Dake jaa_e
aziiz :
jo bhii likho tum, dil kii baate.n ab na chhupe.ngii chhupaa_e
haa.N.a ab na chhupe.ngii chhupaa_e
lataa :
mai.n achchhii huu.N, ye to likh duu.N   (2)
ye kaise likhuu.N, mujhe tumase muhabbat ho ga_ii hai
mujhe tumase muhabbat ho ga_ii hai

lataa :
ye sochaa hai, itanaa likh duu.N, kuchh din se mujhe, kyaa jaane kyuu.N
ye duniyaa hasii.n lagatii hai (2)
aziiz :
ye bhii likhanaa, ab saare din, hai saath ko_ii, ki jisake bin
tabiiyat hii nahii.n lagatii hai (2)
lataa :
bataa_o, bataa_o, kin lafzo.n me.n mai.n ye likhuu.N, mujhako tum samajhaa_o
mujhe tumase muhabbat ho ga_ii hai
mujhe tumase muhabbat ho ga_ii hai

lataa :
mai.n kuchh likhuu.N vo kuchh samajhe, aisaa nahii.n ho jaa_e
haa.N.a aisaa nahii.n ho jaa_e
aziiz :
aisaa hai to saaf likho tum, apanii to hai ye raay
haa.N.a apanii to hai ye raay
lataa :
haa.N sach to hai, kyuu.N sharamaa_uu.N (2)
kyuu.N ye na likhuu.N, mujhe tumase muhabbat ho ga_ii hai
aziiz :
to likh do muhabbat ho ga_ii hai
lataa :
likh duu.Ngii muhabbat ho ga_ii hai
aziiz :
mujhe tumase muhabbat ho ga_ii hai
lataa :
mujhe tumase muhabbat ho ga_ii hai

कुछ और सुझाव / Related content: