LyricsIndia.net

गाना / Title: न किसी की आँख का - Na kisi ki aankh ka (Shararat)

चित्रपट / Film: शरारत-(Shararat)

संगीतकार / Music Director: साजिद - वाजिद-(Sajid - Wajid)

गीतकार / Lyricist: समीर-(Sameer)

गायक / Singer(s): Talat Aziz

शेअर करें / Share Page

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
न किसी की आँख का नूर हूँ
न किसी की आँख का नूर हूँ
न किसी के दिल का क़रार हूँ
जो किसी के काम न आ सके
मैं वह एक मुस्ठ-इ-गुबार हूँ
न किसी की आँख का नूर हूँ

मेरा रंग रूप बिगड़ गया
मेरा यार महजसे बिछड़ गया
जो चमन फ़िज़ा में उजड़ गया
मैं उसी की फ़ासले बहार हूँ
न किसी की आँख का नूर हूँ
न किसी के दिल का क़रार हूँ

मैं कहाँ रहूँ मैं खहन बासु
न यह मुझसे खुश न वह मुझसे खुश
मैं ज़मीं की पीट का बोझ हूँ
मैं फ़लक के दिल का गुबार हूँ
न किसी की आँख का नूर हूँ

पड़े फातिहा कोई आये क्यों
कोई चार फूल चढ़ाए क्यों
कोई आके शामा झलाये क्यों
कोई आके शामा झलाये क्यों
मैं वह बे-कासी का मज़ार हूँ
न किसी की आँख का नूर हूँ
न किसी के दिल का क़रार हूँ
जो किसी के काम न आ सके
मैं वह एक मुस्ठ-इ-गुबार हूँ
न किसी की आँख का नूर हूँ.

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
Na kisi ki aankh ka noor hoon
Na kisi ki aankh ka noor hoon
Na kisi ke dil ka karar hoon
Jo kisi ke kaam na aa sake
Main woh ek musth-e-gubaar hoon
Na kisi ki aankh ka noor hoon


Mera rang roop bigad gaya
Mera yaar muhjse bichad gaya
Jo chaman fiza mein ujad gaya
Main usi ki faasle bahar hoon
Na kisi ki aankh ka noor hoon
Na kisi ke dil ka karar hoon


Main kahan rahoon main khahan basu
Na yeh mujhse khush na woh mujhse khush
Main zamin ki peet ka boj hoon
Main falak ke dil ka gubaar hoon
Na kisi ki aankh ka noor hoon


Pade faatiha koyi aaye kyon
Koyi chaar phool chadaye kyon
Koyi aake shama jhalaye kyon
Koyi aake shama jhalaye kyon
Main woh be-kasi ka mazaar hoon
Na kisi ki aankh ka noor hoon
Na kisi ke dil ka karar hoon
Jo kisi ke kaam na aa sake
Main woh ek musth-e-gubaar hoon
Na kisi ki aankh ka noor hoon.

कुछ और सुझाव / Related content: