गाना / Title: वाक़िफ़ हूँ खूब इश्क़ के तर्ज़-ए-बयाँ से मैं - vaaqif huu.N khuub ishq ke tarz-e-bayaa.N se mai.n

चित्रपट / Film: Bahu Begum

संगीतकार / Music Director: Roshan

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)Tabish

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



अरज़-ए-शौक़ आँखों में है, अरज़-ए-वफ़ा आँखों में है
तेरे आगे बात कहने का मज़ा आँखों में है

वाक़िफ़ हूँ खूब इश्क़ के तर्ज़-ए-बयाँ से मैं
कह दूँगा दिल की बात नज़र की ज़ुबाँ से मैं -२

मेरी वफ़ा का शौक़ से तू इम्तहान ले
गुज़रूंग तेरे इश्क़ में हर इम्तहाँ से मैं
वाक़िफ़ हूँ खूब इश्क़...

ऐ हुस्न-ए-आशना तेरे जलवों की खैर हो
बे-गान हो गया हूँ ग़म-ए-दो जहाँ से मैं





अब जां-ब-लब हूँ शिद्दत-ए-दर्द-ए-निहाँ से मैं
ऐसे में तुझ को ढूँढ कर लाऊँ कहाँ से मैं

ज़मीं हम्दर्द है मेरी न हमदम आसमां मेरा
तेरा दर छूट गया तो फिर ठिकाना है कहाँ मेरा
क़सम है तुझ को, तुझ को क़सम है,
जज़्बा-ए-दिल न जाये रैगाँ मेरा
यही है इम्तहाँ तेरा, यही है इम्तहां मेरा
एक सिम्ट मुहब्बत है एक सिम्ट ज़माना
अब ऐसे में तुझ को ढूँढ कर लाऊँ कहाँ से मैं

तेरा ख़याल तेरी तमन्ना लिये हुए
दिल बुझ रहा है आस का शोला लिये हुए
हैराँ खड़ी हुई है दोराहे पे ज़िंदगी
नाकाम हसरतों का जनाज़ा लिये हुए
अब ऐसे में तुझ को ढूँढ कर लाऊँ कहाँ से मैं

आवाज़ दे रहा है दिल-ए-ख़ानमां ख़राब
सीने में इज़्तराब है साँसों में पेच-ओ-ताब
ऐ रूह-ए-इश्क़ ऐ जान-ए-वफ़ा कुच तो दे जवाब
अब जां-ब-लब हूँ शिद्दत-ए-दर्द-ए-निहाँ से मैं
ऐसे में तुझ को ढूँढ कर लाऊँ कहाँ से मैं




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

araz-e-shauq aa.Nkho.n me.n hai, araz-e-vafaa aa.Nkho.n me.n hai
tere aage baat kahane kaa mazaa aa.Nkho.n me.n hai

vaaqif huu.N khuub ishq ke tarz-e-bayaa.N se mai.n
kah duu.Ngaa dil kii baat nazar kii zubaa.N se mai.n -2

merii vafaa kaa shauq se tuu imtahaan le
guzaruu.nga tere ishq me.n har imtahaa.N se mai.n
vaaqif huu.N khuub ishq...

ai husn-e-aashanaa tere jalavo.n kii khair ho
be-gaana ho gayaa huu.N Gam-e-do jahaa.N se mai.n





ab jaa.n-b-lab huu.N shiddat-e-dard-e-nihaa.N se mai.n
aise me.n tujh ko Dhuu.NDh kar laauu.N kahaa.N se mai.n

zamii.n hamdard hai merii na hamadam aasamaa.n meraa
teraa dar chhuuT gayaa to phir Thikaanaa hai kahaa.N meraa
qasam hai tujh ko, tujh ko qasam hai,
jazbaa-e-dil na jaaye raigaa.N meraa
yahii hai imtahaa.N teraa, yahii hai imtahaa.n meraa
ek simT muhabbat hai ek simT zamaanaa
ab aise me.n tujh ko Dhuu.NDh kar laauu.N kahaa.N se mai.n

teraa Kayaal terii tamannaa liye hue
dil bujh rahaa hai aas kaa sholaa liye hue
hairaa.N kha.Dii huii hai doraahe pe zi.ndagii
naakaam hasarato.n kaa janaazaa liye hue
ab aise me.n tujh ko Dhuu.NDh kar laauu.N kahaa.N se mai.n

aavaaz de rahaa hai dil-e-Kaanamaa.n Karaab
siine me.n iztaraab hai saa.Nso.n me.n pech-o-taab
ai ruuh-e-ishq ai jaan-e-vafaa kuch to de javaab
ab jaa.n-b-lab huu.N shiddat-e-dard-e-nihaa.N se mai.n
aise me.n tujh ko Dhuu.NDh kar laauu.N kahaa.N se mai.n