गाना / Title: शौक़ हर रंग रकीब-ए-सर-ओ-सामाँ निकला - shauq har ra.ng rakiib-e-sar-o-saamaa.N nikalaa

चित्रपट / Film: गैर फ़िल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Ghalib

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



शौक़ हर रंग रकीब-ए-सर-ओ-सामाँ निकला
क़ैस तस्वीर के पर्दे में भी उरियाँ निकला

ज़ख़्म ने दाद न दी तंगी-ए-दिल की या रब
तीर भी सीना-ए-बिस्मिल से पर-अफ़्शाँ निकला

बू-ए-गुल नाला-ए-दिल दूद-द-चराग़-ए-महफ़िल
जो तेरी बज़्म से निकला सो परीशाँ निकला

दिल-ए-हसरतज़दा था माइल-ए-लज़ात-ए-दर्द
काम यारों का ब-क़द्र-ए-लब-ओ-दन्दा निकला

है नौ-आमोज़-ए-फ़न हिम्मत-ए-दुश्वार पसन्द
सख़्त मुश्क़िल है कि यह काम भी आसाँ निकला

दिल में फिर गिरिये ने इक शोर उठाया 'ग़ालिब'
आह जो क़तरा न निकला था सो तूफ़ाँ निकला



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

shauq har ra.ng rakiib-e-sar-o-saamaa.N nikalaa
qais tasviir ke parde me.n bhii uriyaa.N nikalaa

zaKm ne daad na dii ta.ngii-e-dil kii yaa rab
tiir bhii siinaa-e-bismil se par-afshaa.N nikalaa

buu-e-gul naalaa-e-dil duud-d-charaaG-e-mahafil
jo terii bazm se nikalaa so pariishaa.N nikalaa

dil-e-hasaratazadaa thaa maa_il-e-lazaat-e-dard
kaam yaaro.n kaa ba-qadr-e-lab-o-dandaa nikalaa

hai nau-aamoz-e-fan himmat-e-dushwaar pasand
saKt mushqil hai ki yah kaam bhii aasaa.N nikalaa

dil me.n phir giriye ne ik shor uThaayaa 'Gaalib'
aah jo qataraa na nikalaa thaa so tuufaa.N nikalaa