गाना / Title: शौक़ हर रंग रकीब-ए-सर-ओ-सामाँ निकला - shauq har ra.ng rakiib-e-sar-o-saamaa.N nikalaa

चित्रपट / Film: गैर फ़िल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Ghalib

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
शौक़ हर रंग रकीब-ए-सर-ओ-सामाँ निकला
क़ैस तस्वीर के पर्दे में भी उरियाँ निकला

ज़ख़्म ने दाद न दी तंगी-ए-दिल की या रब
तीर भी सीना-ए-बिस्मिल से पर-अफ़्शाँ निकला

बू-ए-गुल नाला-ए-दिल दूद-द-चराग़-ए-महफ़िल
जो तेरी बज़्म से निकला सो परीशाँ निकला

दिल-ए-हसरतज़दा था माइल-ए-लज़ात-ए-दर्द
काम यारों का ब-क़द्र-ए-लब-ओ-दन्दा निकला

है नौ-आमोज़-ए-फ़न हिम्मत-ए-दुश्वार पसन्द
सख़्त मुश्क़िल है कि यह काम भी आसाँ निकला

दिल में फिर गिरिये ने इक शोर उठाया 'ग़ालिब'
आह जो क़तरा न निकला था सो तूफ़ाँ निकला

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
shauq har ra.ng rakiib-e-sar-o-saamaa.N nikalaa
qais tasviir ke parde me.n bhii uriyaa.N nikalaa

zaKm ne daad na dii ta.ngii-e-dil kii yaa rab
tiir bhii siinaa-e-bismil se par-afshaa.N nikalaa

buu-e-gul naalaa-e-dil duud-d-charaaG-e-mahafil
jo terii bazm se nikalaa so pariishaa.N nikalaa

dil-e-hasaratazadaa thaa maa_il-e-lazaat-e-dard
kaam yaaro.n kaa ba-qadr-e-lab-o-dandaa nikalaa

hai nau-aamoz-e-fan himmat-e-dushwaar pasand
saKt mushqil hai ki yah kaam bhii aasaa.N nikalaa

dil me.n phir giriye ne ik shor uThaayaa 'Gaalib'
aah jo qataraa na nikalaa thaa so tuufaa.N nikalaa

Related content: