गाना / Title: तुम इक गोरख-धन्दा हो - tum ik gorakh-dhandaa ho

चित्रपट / Film: "अज्ञात"-(Unknown)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Naaz Khayaalvi

गायक / Singer(s): Nusrat Fateh Ali Khan

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



कभी यहाँ तुम्हें ढूँढा, कभी वहाँ पहुँचा
तुम्हारी दीद की ख़ातिर कहाँ-कहाँ पहुँचा
ग़रीब मिट गए, पामाल हो गए लेकिन
किसी तलक न तेरा आज तक निशां पहुँचा





हो भी नहीं और, हर जा हो
हो भी नहीं और, हर जा हो
तुम इक गोरख धन्दा हो!


हर ज़र्रे में किस शान से तू जल्वा-नुमा है
हैरां है मगर अक़्ल के कैसा है तू, क्या है?
तुम इक गोरख धन्दा हो!

तुझे दैर-ओ-हरम में मैंने ढूँढा तू नहीं मिलता
मगर तशरीग-फ़र्मा तुझे अपने दिल में देखा है!
तुम इक गोरख धन्दा हो!

ढूँढे नहीं मिले हो, न ढूँढे से कहीं तुम
और फिर ये तमाशा है जहाँ हम हैं वहीं तुम!
तुम इक गोरख धन्दा हो!

जब बजुज़ तेरे कोई दूसरा मौजूद नहीं
फिर समझ में नहीं आता तेरा पर्दा करना!
तुम इक गोरख धन्दा हो!



जो उल्फ़त में तुम्हारी खो गया है
उसी खोए हुए को कुछ मिला है
नहीं है तू तो फिर इनकार कैसा?
नफ़ी भी तेरे होने का पता है


मैं जिसको कह रहा हूँ अपनी हस्ती
अगर वो तू नहीं तो और क्या है?
नहीं आया खयालों में अगर तू
तो फिर मैं कैसे समझा तू खुदा है?
तुम इक गोरख धन्दा हो!

हैरां हूँ इस बात पे तुम कौन हो क्या हो?
हाथ आओ तो बुत, हाथ न आओ तो ख़ुदा हो!
तुम इक गोरख धन्दा हो!

अक़्ल में जो घिर गया ल-इन्तहा क्योंकर हुआ?
जो समझ में आ गया फिर वो ख़ुदा क्योंकर हुआ?
तुम इक गोरख धन्दा हो!


छुपते नहीं हो सामने आते नहीं हो तुम
जल्वा दिखाके जल्वा दिखाते नहीं हो तुम

दैर-ओ-हरम के झगड़े मिटाते नहीं हो तुम
जो अस्ल बात है वो बताते नहीं हो तुम
हैरां हूँ मेरे दिल में समाए हो किस तरह?
हालांके दो जहाँ में समाते नहीं हो तुम!

ये माबाद-ओ-हरम, ये कलीसा, वो दैर क्यों?
हर्जाई हो तभी तो बताते नहीं हो तुम!
तुम इक गोरख धन्दा हो!


दिल पे हैरत ने अजब रँग जमा रखा है!
एक उलझी हुई तसवीर बना रखा है!
कुछ समझ में नहीं आता के ये चक्कर क्या है?
खेल क्या तुमने अज़ल से ये रचा रखा है!


रूह को जिस्म के पिंजरे का बनाकर कैदी
उसपे फिर मौत का पहरा भी बिठा रखा है!
ये बुराई, वो भलाई, ये जहन्नुम, वो बहिश्त
इस उलट-फेर में फ़र्माओ तो क्या रखा है?
अपनी पहचान की खातिर है बनाया सबको
सबकी नज़रों से मगर खुद को छुपा रखा है!
तुम इक गोरख धन्दा हो!

राह-ए-तहक़ीक़ में हर ग़ाम पे उलझन देखूँ
वही हालात-ओ-खयालात में अनबन देखूँ


बनके रह जाता हूँ तसवीर परेशानी की
ग़ौर से जब भी कभी दुनिया का दर्पन देखूँ
एक ही ख़ाक़ पे फ़ित्रत के तजादात इतने!
इतने हिस्सों में बँटा एक ही आँगन देखूँ!



कहीं ज़हमत की सुलग़ती हुई पत्झड़ का समा
कहीं रहमत के बरसते हुए सावन देखूँ


कहीं फुँकारते दरिया, कहीं खामोश पहाड़!
कहीं जंगल, कहीं सहरा, कहीं गुलशन देखूँ
ख़ून रुलाता है ये तक़्सीम का अन्दाज़ मुझे
कोई धनवान यहाँ पर कोई निर्धन देखूँ

दिन के हाथों में फ़क़त एक सुलग़ता सूरज
रात की माँग सितारों से मुज़ईय्यन देखूँ



कहीं मुरझाए हुए फूल हैं सच्चाई के
और कहीं झूठ के काँटों पे भी जोबन देखूँ!

रात क्या शय है, सवेरा क्या है?
ये उजाला, ये अंधेरा क्या है?

मैं भी नायिब हूँ तुम्हारा आख़िर
क्यों ये कहते हो के "तेरा क्या है?"
तुम इक गोरख धन्दा हो!


जो कहता हूँ माना तुम्हें लगता है बुरा सा
फिर भी है मुझे तुमसे बहर-हाल ग़िला सा
हर ज़ुल्म की तौफ़ीक़ है ज़ालिम की विरासत
मज़लूम के हिस्से में तसल्ली न दिलासा


कल ताज सजा देखा था जिस शक़्स के सर पर
है आज उसी शक़्स के हाथों में ही कासा!
यह क्या है अगर पूछूँ तो कहते हो जवाबन
इस राज़ से हो सकता नहीं कोई शनासा!

तुम इक गोरख धन्दा हो!!



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

kabhii yahaa.N tumhe.n Dhuu.NDhaa, kabhii vahaa.N pahu.Nchaa
tumhaarii diid kii Kaatir kahaa.N-kahaa.N pahu.Nchaa
Gariib miT ga_e, paamaal ho ga_e lekin
kisii talak na teraa aaj tak nishaa.n pahu.Nchaa





ho bhii nahii.n aur, har jaa ho
ho bhii nahii.n aur, har jaa ho
tum ik gorakh dhandaa ho!


har zarre me.n kis shaan se tuu jalvaa-numaa hai
hairaa.n hai magar aql ke kaisaa hai tuu, kyaa hai?
tum ik gorakh dhandaa ho!

tujhe dair-o-haram me.n mai.nne Dhuu.NDhaa tuu nahii.n milataa
magar tashariig-farmaa tujhe apane dil me.n dekhaa hai!
tum ik gorakh dhandaa ho!

Dhuu.NDhe nahii.n mile ho, na Dhuu.NDhe se kahii.n tum
aur phir ye tamaashaa hai jahaa.N ham hai.n vahii.n tum!
tum ik gorakh dhandaa ho!

jab bajuz tere koii duusaraa maujuud nahii.n
phir samajh me.n nahii.n aataa teraa pardaa karanaa!
tum ik gorakh dhandaa ho!



jo ulfat me.n tumhaarii kho gayaa hai
usii kho_e hue ko kuchh milaa hai
nahii.n hai tuu to phir inakaar kaisaa?
nafii bhii tere hone kaa pataa hai


mai.n jisako kah rahaa huu.N apanii hastii
agar vo tuu nahii.n to aur kyaa hai?
nahii.n aayaa khayaalo.n me.n agar tuu
to phir mai.n kaise samajhaa tuu khudaa hai?
tum ik gorakh dhandaa ho!

hairaa.n huu.N is baat pe tum kaun ho kyaa ho?
haath aao to but, haath na aao to Kudaa ho!
tum ik gorakh dhandaa ho!

aql me.n jo ghir gayaa la-intahaa kyo.nkar huaa?
jo samajh me.n aa gayaa phir vo Kudaa kyo.nkar huaa?
tum ik gorakh dhandaa ho!


chhupate nahii.n ho saamane aate nahii.n ho tum
jalvaa dikhaake jalvaa dikhaate nahii.n ho tum

dair-o-haram ke jhaga.De miTaate nahii.n ho tum
jo asl baat hai vo bataate nahii.n ho tum
hairaa.n huu.N mere dil me.n samaae ho kis tarah?
haalaa.nke do jahaa.N me.n samaate nahii.n ho tum!

ye maabaad-o-haram, ye kaliisaa, vo dair kyo.n?
harjaa_ii ho tabhii to bataate nahii.n ho tum!
tum ik gorakh dhandaa ho!


dil pe hairat ne ajab ra.Ng jamaa rakhaa hai!
ek ulajhii huii tasaviir banaa rakhaa hai!
kuchh samajh me.n nahii.n aataa ke ye chakkar kyaa hai?
khel kyaa tumane azal se ye rachaa rakhaa hai!


ruuh ko jism ke pi.njare kaa banaakar kaidii
usape phir maut kaa paharaa bhii biThaa rakhaa hai!
ye buraaii, vo bhalaaii, ye jahannum, vo bahisht
is ulaT-pher me.n farmaao to kyaa rakhaa hai?
apanii pahachaan kii khaatir hai banaayaa sabako
sabakii nazaro.n se magar khud ko chhupaa rakhaa hai!
tum ik gorakh dhandaa ho!

raah-e-tahaqiiq me.n har Gaam pe ulajhan dekhuu.N
vahii haalaat-o-khayaalaat me.n anaban dekhuu.N


banake rah jaataa huu.N tasaviir pareshaanii kii
Gaur se jab bhii kabhii duniyaa kaa darpan dekhuu.N
ek hii Kaaq pe fitrat ke tajaadaat itane!
itane hisso.n me.n ba.NTaa ek hii aa.Ngan dekhuu.N!



kahii.n zahamat kii sulaGatii huii patjha.D kaa samaa
kahii.n rahamat ke barasate hue saavan dekhuu.N


kahii.n phu.Nkaarate dariyaa, kahii.n khaamosh pahaa.D!
kahii.n ja.ngal, kahii.n saharaa, kahii.n gulashan dekhuu.N
Kuun rulaataa hai ye taqsiim kaa andaaz mujhe
koii dhanavaan yahaa.N par koii nirdhan dekhuu.N

din ke haatho.n me.n faqat ek sulaGataa suuraj
raat kii maa.Ng sitaaro.n se muza_iiyyan dekhuu.N



kahii.n murajhaae hue phuul hai.n sachchaaii ke
aur kahii.n jhuuTh ke kaa.NTo.n pe bhii joban dekhuu.N!

raat kyaa shay hai, saveraa kyaa hai?
ye ujaalaa, ye a.ndheraa kyaa hai?

mai.n bhii naayib huu.N tumhaaraa aaKir
kyo.n ye kahate ho ke "teraa kyaa hai?"
tum ik gorakh dhandaa ho!


jo kahataa huu.N maanaa tumhe.n lagataa hai buraa saa
phir bhii hai mujhe tumase bahar-haal Gilaa saa
har zulm kii taufiiq hai zaalim kii viraasat
mazaluum ke hisse me.n tasallii na dilaasaa


kal taaj sajaa dekhaa thaa jis shaqs ke sar par
hai aaj usii shaqs ke haatho.n me.n hii kaasaa!
yah kyaa hai agar puuchhuu.N to kahate ho javaaban
is raaz se ho sakataa nahii.n koii shanaasaa!

tum ik gorakh dhandaa ho!!