गाना / Title: मचल के जब भी आँखों से छलक जाते हैं दो आँसू - machal ke jab bhii aa.Nkho.n se chhalak jaate hai.n do aa.Nsuu

चित्रपट / Film: गृहप्रवेश-(Griha Pravesh)

संगीतकार / Music Director: कनू रॉय-(Kanu Roy)

गीतकार / Lyricist: गुलजार-(Gulzar)

गायक / Singer(s): भूपेंद्र-(Bhupinder)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
मचल के जब भी आँखों से छलक जाते हैं दो आँसू
सुना है आबशारों को बड़ी तक़लीफ़ होती है

खुदारा अब तो बुझ जाने दो इस जलती हुई लौ को
चरागों से मज़ारों को बड़ी तक़लीफ़ होती है, मचल ...

कहूँ क्या वो बड़ी मासूमियत से पूछ बैठे हैं
क्या सचमुच दिल के मारों को बड़ी तक़लीफ़ होती है
मचल ...

तुम्हारा क्या तुम्हें तो राह दे देते हैं काँटे भी
मगर हम ख़ाकज़ारों को बड़ी तक़लीफ़ होती है
मचल ...

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
machal ke jab bhI aa.Nkho.n se chhalak jaate hai.n do aa.Nsuu
sunaa hai aabashaaro.n ko ba.DI taqaliif hotI hai

khudaaraa ab to bujh jaane do is jalatI huI lau ko
charaago.n se mazaaro.n ko ba.DI taqaliif hotI hai, machal ...

kahuu.N kyaa vo ba.DI maasuumiyat se puuchh baiThe hai.n
kyaa sachamuch dil ke maaro.n ko ba.DI taqaliif hotI hai
machal ...

tumhaaraa kyaa tumhe.n to raah de dete hai.n kaa.NTe bhI
magar ham Kaakazaaro.n ko ba.DI taqaliif hotI hai
machal ...

Related content: