गाना / Title: पी है शराब, ज़ब्त की हद से बढ़ें - pii hai sharaab, zabt kii had se ba.Dhe.n

चित्रपट / Film: Sharmaate Sharmaate

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist:

गायक / Singer(s): Bhupinder

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



जब कभी घुटने लगा सीने में दम 
पी है शराब, ज़ब्त की हद से बढ़ें जब रन्ज-ओ-गम,...

एक तो चढ़ती जवानी का नशा ही कम ना था 
दुसरे उस पर ये ढाया है सितम, पी है ... 

मुझ पे इल्ज़ाम-ए-बलानोशी सरासर है गलत 
जिस कदर आँसू पिये हैं उस से कम, पी है ... 

जब कभी साकी से अए 'काशिफ़' निगाहें मिल गईं 
तोड़कर मैं ने ना पीने की कसम, पी है ... 



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

jab kabhii ghuTane lagaa siine me.n dam 
pii hai sharaab, zabt kii had se ba.Dhe.n jab ranj-o-gam,...

ek to cha.Dhatii javaanii kaa nashaa hii kam nA thaa 
dusare us par ye Dhaayaa hai sitam, pii hai ... 

mujh pe ilzaam-e-balaanoshii saraasar hai galat 
jis kadar aa.Nsuu piye hai.n us se kam, pii hai ... 

jab kabhii saakii se ae 'kaashif' nigaahe.n mil ga_ii.n 
to.Dakar mai.n ne nA piine kii kasam, pii hai ...