LyricsIndia.net

Hey, want to try making your own Karaoke from any youtube track? Check out some samples on our new beta website Pruthak (meaning: separate) which can split a track into vocals, drums, bass, piano!

गाना / Title: पलकों पे चलते चलते - palkon pe chalte chalte (Daayra)

चित्रपट / Film: Daayra - The Square Circle

संगीतकार / Music Director: आनंद मिलिंद-(Anand Milind)

गीतकार / Lyricist: गुलजार-(Gulzar)

गायक / Singer(s): येसुदास-(Yesudas)

शेअर करें / Share Page

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
पलकों पे चलते चलते
जब उन्हें लगती हैं
सो जाके सोती हैं तो
उड़ने लगती हैं
पलकों पे चलते चलते
जब उन्हें लगती हैं
सो जाके सोती हैं तो
उड़ने लगती हैं
सोंधे से आकाश पे
नीले बाज़ारे बहाते हैं
आँखें जैसी आँखें
सपने चुभने लगती हैं

पलकों पे चलते चलते
जब उन्हें लगती हैं
सो जाके सोती हैं तो
उड़ने लगती हैं
सोंधे से आकाश पे
नीले बाज़ारे बहाते हैं
आँखें जैसी आँखें
सपने चुभने लगती हैं

पीगली हुयी हैं गीली चाँदनी
काची रात का सपन आये
थोड़ी सी जागी थोड़ी सोयी
नींद में कोई अपनाये
नींद में हलकी खुसबूये सी
घुलने लगती हैं
सो जाके सोती हैं तो
उड़ने लगती हैं
सोंधे से आकाश पे
नीले बाज़ारे बहाते हैं
आँखें जैसी आँखें
सपने चुभने लगती हैं

आँखों से केहना लोरी में बहना
रातों का कोई चोर नहीं
तेरे तो और भी होंगे सपने
मेरा तो कोई और नहीं
बोलती आँखें नींद में
सपने सुनाने लगती हैं
सो जा आँखें सोती हैं तो
उड़ने लगती हैं
सोंधे से आकाश पे
नीले बाज़ारे बहाते हैं
आँखें जैसी आँखें
सपने चुभने लगती हैं

सो जा आँखें सोती हैं तो
उड़ने लगती हैं
सोंधे से आकाश पे
नीले बाज़ारे बहाते हैं
आँखें जैसी आँखें
सपने चुभने लगती हैं.

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
palkon pe chalte chalte, jab unghne lagti hain
so ja aankhe soti hain to udane lagti hain
palkon pe chalte calte, jab unghne lagti hain
so ja aankhe soti hain to udane lagti hain
sondhe se aakash pe nile bajre bahte hain
paankhe jaisi aankhe sapne chugne lagti hain

palkon pe chalte calte, jab unghne lagti hain
so ja aankhe soti hain to udane lagti hain
sondhe se aakash pe nile bajre bahte hain
paankhe jaisi aankhe sapne chugne lagti hain

pighli hui hain gili chaandni
kachchi raat ka sapna aaye
thodi si jaagi thodi si soi
nind me koi apnaa aaye
nind me halki khushbu aisi ghulne lagti hain
so ja aankhe soti hain to udane lagti hain
sondhe se aakash pe nile bajre bahte hain
paankhe jaisi aankhe sapne chugne lagti hain

aankho se kahna lori me bahna
rato ka koi chhor nahi
tere to aur bhi honge sapne
mera to koi aur nahi
bolti aankhe nind me sapne, sunane lagti hain
so ja aankhe soti hain to udane lagti hain
sondhe se aakash pe nile bajre bahte hain
paankhe jaisi aankhe sapne chugne lagti hain

palkon pe chalte calte, jab unghne lagti hain
so ja aankhe soti hain to udane lagti hain
sondhe se aakash pe nile bajre bahte hain
paankhe jaisi aankhe sapne chugne lagti hain

कुछ और सुझाव / Related content: