LyricsIndia.net

गाना / Title: यह मैं कहाँ आके फस गया - Yeh main kahan (Shararat)

चित्रपट / Film: शरारत-(Shararat)

संगीतकार / Music Director: साजिद - वाजिद-(Sajid - Wajid)

गीतकार / Lyricist: समीर-(Sameer)

गायक / Singer(s): Anupamaहरीहरन-(Hariharan)सोनु निगम-(Sonu Nigam)

शेअर करें / Share Page

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
यह मैं कहाँ आके फस गया
न जोश है नहीं शोर है
यह मैं कहाँ आके फस गया
न जोश है नहीं शोर है
दो ही गाड़ी में गाबरा गया
यहाँ ज़िन्दगी बड़ी बोर है
ए नज़र न कोई रास्ता
किन् से पड़ा है मेरा वास्ता
समाज में कुछ भी
आये न मैं क्या करू भला

कोई जाने न यारों के बिना
खोया खोया सा मैं रहूँ
याद आ रहे बाईट दिन मुह्जे
कैसे यह घयटन मैं सहो
देखो तो घर से
अच्छा सा जेल है
तुम सारे रहते जहाँ
न कोई ख्वाब है न
कोई रंग है न
कोई है दास्ताँ
नींद से जागो
साथ मेरे भागो
मुश्किल है जीना यहाँ
पूछो ज़रा है कैसी ज़िन्दगी
जैसे जियो है वैसी ज़िन्दगी
जहाँ है घुम वहाँ है
ख़ुशी यह सोच तू ज़रा
यह मैं कहाँ आके फस गया
न जोश है नहीं शोर है

नफरतें यहाँ रूकती ही
नहीं इस दुनिया में प्यार है
बेगाना है यहाँ कोई भी
नहीं ऐसा यह परिवार है
धरती के गोद में
यह अपना स्वर्ग है
हास् के यहाँ रहते है हम
है ऊँचे होसले
उम्मीदें भी है जवान
हमको न यहाँ है कोई घूम
नादाँ है बच्चा है
अकाल का तू कच्चा है
तुझको नहीं कुछ भी पता
बूढ़े पेड़ हो कुछ न पाओगे
झुको गे न जो तुम तो टूट जाओगे
न जिद करो रे मान लो
यह कहना तुम मेरा
आती जाती है मुश्किलें बड़ी
हार हम कभी मान ते नहीं
जान जाओगे मान जाओगे
तुम अभी हमें जानते नहीं
यह बताएँगे बेटा कल तुह्जे
बूढ़े पेड़ ही देगे फल तुह्जे
बुज़ुर्गों की जो न सुने
वह रोये बाद में
यह मैं कहाँ आके फस गया
न जोश है नहीं शोर है.

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
Yeh main kahan aake fas gaya
Na josh hai nahin shor hai
Yeh main kahan aake fas gaya
Na josh hai nahin shor hai
Do hi gadi mein gabra gaya
Yahan zindagi badi bore hai
Aye nazar na koyi raasta
Kin se pada hai mera waasta
Samaj mein kucch bhi
Aaye na main kya karu bhala


Koyi jaane na yaaron ke bina
Khoya khoya sa main rahun
Yaad aa rahe bite din muhje
Kaise yeh ghytan main saho
Dekho to ghar se
Achcha sa jail hai
Tum saare rahte jahan
Na koyi khwaab hai na
Koyi rang hai na
Koyi hai daastan
Neend se jaago
Saath mere bhaago
Mushkil hai jeena yahan
Poocho zara hai kaisi zindagi
Jaise jiyo hai waisi zindagi
Jahan hai ghum wahan hai
Khushi yeh soch tu zara
Yeh main kahan aake fas gaya
Na josh hai nahin shor hai


Nafraten yahan rukti hi
Nahi is duniya mein pyaar hai
Begaana hai yahan koyi bhi
Nahi aisa yeh parivaar hai
Dharti ke god mein
Yeh apna swarg hai
Has ke yahan rehte hai hum
Hai unche hosle
Umiden bhi hai jawan
Humko na yahan hai koyi ghum
Naadaan hai baccha hai
Akal ka tu kachcha hai
Tujhko nahin kuch bhi pata
Budhe ped hao kuch na paaoge
Jhuko ge na jo tum to tut jaaoge
Na zid karo re maan lo
Yeh kehna tum mera
Aati jati hai mushkile badi
Haar hum kabhi maan te nahin
Jaan jaaoge maan jaaoge
Tum abhi hame jaante nahin
Yeh batayenge beta kal tuhje
Boodhe ped hi dege fal tuhje
Buzurgon ki jo na sune
Woh roye baad mein
Yeh main kahan aake fas gaya
Na josh hai nahin shor hai.

कुछ और सुझाव / Related content: