LyricsIndia.net

गाना / Title: खो न जाएँ ये तारे ज़मीं पर - Kho Na Jaaye Ye Taare Zamiin Par

चित्रपट / Film: तारें ज़मीं पर-(Taare Zameen Par)

संगीतकार / Music Director: शंकर-एहसान-लॉय-(Shankar-Ehsaan-Loy)

गीतकार / Lyricist: Prasoon Joshi

गायक / Singer(s): Dominicशंकर महादेवन-(Shankar Mahadevan)

शेअर करें / Share Page

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
शं.:
देखो इन्हें ये हैं ओस की बूँदें
पत्तों की गोद में आसमाँ से कूदें
अंगड़ायी लें फिर करवट बदल कर
नाज़ुक से मोती हँस दें फिसल कर
खो न जाएँ ये तारे ज़मीं पर

ये तो हैं सर्दी में धूप की किरनें
उतरें जो आँगन को सुनहरा-सा करने
मन के अँधेरों को रौशन-सा कर देँ
ठिठुरती हथेली की रंगत बदल देँ
खो न जाएँ ये तारे ज़मीं पर

शं., डो., वि.:
जैसे आँखों की डिबिया में निंदिया
पर निंदिया में मीठा-सा सपना
और सपने में मिल जाये फ़रिश्ता-सा कोई 
जैसे रंगों भरी पिचकारी 
जैसे तितलियाँ फूलों की क्यारी
जैसे बिना मतलब का प्यारा रिश्ता हो कोई

शं.:
ये तो आशा की लहर है 
ये तो उम्मीद की सहर है
ख़ुशियों की नहर है
खो न जाएँ ये तारे ज़मीं पर

आऽ

शं., डो., वि.:
देखो रातों के सीने पे ये तो
झिल-मिल किसी लौ से उगे हैं
ये तो अँबिया की ख़ुशबू हैं बागों से बह चले
जैसे काँच की चूड़ी के टुकड़े
जैसे खिले खिले फूलों के मुखड़े
जैसे बंसी कोई बजाये पेड़ों के तले

शं.:
ये तो झोंके हैं पवन के
हैं ये घुँघरू जीवन के
ये तो सुर हैं चमन के
खो न जाएँ ये तारे ज़मीं पर

मोहल्ले की रौनक गलियाँ हैं जैसे
खिलने की ज़िद पर कलियाँ हैं जैसे
मुट्ठी में मौसम की जैसे हवाएँ
ये है बुज़ुर्गों के दिल की दुआएँ
खो न जाएँ ये तारे ज़मीं पर

शं., डो., वि.:
कभी बातेँ जैसे दादी-नानी
कभी छलकें जैसे मम मम पानी
कभी बन जाएँ भोले सवालों की झड़ी 
(शं: खो न जाएँ ये ...)
सन्नाटे में हसीं के जैसे
सूने होंठों पे ख़ुशियों के जैसे
ये तो नूर हैं बरसे गर तेरी क़िस्मत हो बड़ी (शं: खो न जाएँ ये ...)
जैसे झील में लहराये चंदा
जैसे भीड़ में अपने का कंधा
जैसे मन-मौजि नदिया
झाग उड़ाये कुछ कहे
जैसे बैठे-बैठे मीठी-सी झपकी
जैसे प्यार की धीमी-सी थपकी
जैसे कानों में सरगम हरदम बजती ही रहे
जैसे बरखा उड़ाती है बुँदिया
( fades out )
खो न जाएँ ये ... (4)	

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
sha.n.:
dekho inhe.n ye hai.n os kii buu.Nde.n
patto.n kii god me.n aasamaa.N se kuude.n
a.nga.Daayii le.n phir karavaT badal kar
naazuk se motii ha.Ns de.n phisal kar
kho na jaae.N ye taare zamii.n par

ye to hai.n sardii me.n dhuup kii kirane.n
utare.n jo aa.Ngan ko sunaharaa-saa karane
man ke a.Ndhero.n ko raushan-saa kar de.N
ThiThuratii hathelii kii ra.ngat badal de.N
kho na jaae.N ye taare zamii.n par

sha.n., Do., vi.:
jaise aa.Nkho.n kii Dibiyaa me.n ni.ndiyaa
par ni.ndiyaa me.n miiThaa-saa sapanaa
aur sapane me.n mil jaaye farishtaa-saa koii 
jaise ra.ngo.n bharii pichakaarii 
jaise titaliyaa.N phuulo.n kii kyaarii
jaise binaa matalab kaa pyaaraa rishtaa ho koii

sha.n.:
ye to aashaa kii lahar hai 
ye to ummiid kii sahar hai
Khushiyo.n kii nahar hai
kho na jaae.N ye taare zamii.n par

aa~

sha.n., Do., vi.:
dekho raato.n ke siine pe ye to
jhil-mil kisii lau se uge hai.n
ye to a.Nbiyaa kii Khushabuu hai.n baago.n se bah chale
jaise kaa.Nch kii chuu.Dii ke Tuka.De
jaise khile khile phuulo.n ke mukha.De
jaise ba.nsii koii bajaaye pe.Do.n ke tale

sha.n.:
ye to jho.nke hai.n pavan ke
hai.n ye ghu.Ngharuu jiivan ke
ye to sur hai.n chaman ke
kho na jaae.N ye taare zamii.n par

mohalle kii raunak galiyaa.N hai.n jaise
khilane kii zid par kaliyaa.N hai.n jaise
muTThii me.n mausam kii jaise havaae.N
ye hai buzurgo.n ke dil kii duaa_e.N
kho na jaae.N ye taare zamii.n par

sha.n., Do., vi.:
kabhii baate.N jaise daadii-naanii
kabhii chhalake.n jaise mam mam paanii
kabhii ban jaae.N bhole sawaalo.n kii jha.Dii 
(sha.n: kho na jaae.N ye ...)
sannaaTe me.n hasii.n ke jaise
suune ho.nTho.n pe Khushiyo.n ke jaise
ye to nuur hai.n barase gar terii qismat ho ba.Dii (sha.n: kho na jaae.N ye ...)
jaise jhiil me.n laharaaye cha.ndaa
jaise bhii.D me.n apane kaa ka.ndhaa
jaise man-mauji nadiyaa
jhaag u.Daaye kuchh kahe
jaise baiThe-baiThe miiThii-sii jhapakii
jaise pyaar kii dhiimii-sii thapakii
jaise kaano.n me.n saragam haradam bajatii hii rahe
jaise barakhaa u.Daatii hai bu.Ndiyaa
(## fades out ##)
kho na jaae.N ye ... (4)	

कुछ और सुझाव / Related content: