LyricsIndia.net

गाना / Title: राह बनी खुद मंजिल - Raah Bani Khud Manzil (Kohra)

चित्रपट / Film: कोहरा-(Kohra)

संगीतकार / Music Director: हेमंत कुमार-(Hemant Kumar)

गीतकार / Lyricist: कैफ़ी आज़मी-(Kaifi Azmi)

गायक / Singer(s): हेमंत कुमार-(Hemant Kumar)

शेअर करें / Share Page

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
राह बनी खुद मंज़िल
पीछे रह गई मुश्किल, साथ जो आये तुम

देखो फूल बन के सारी धरती खिल पड़ी
गुज़रे आरज़ू के रास्तों से जिस घड़ी, जिस्म चुराये तुम

झरना कह रहा है मेरे दिल की दास्तान 
मेरी प्यास लेकर छा रही हैं मस्तियाँ, जीन में नहाये तुम

पंछी उड़ गये सब गा के नग़्मा यार का
लेकिन दिल ने ऐसा जाल फेंका प्यार का, उड़ने ना पाये तुम

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
Raah bani khud mnjil
Pichhe rah gi mushkil, saath jo aye tum

Dekho ful ban ke saari dharati khil padi
Gujre arazu ke raaston se jis ghadi, jism churaaye tum

Jharana kah raha hai mere dil ki daastaan 
Meri pyaas lekar chha rahi hain mastiyaan, jin men nahaaye tum

Pnchhi ud gaye sab ga ke nagma yaar ka
Lekin dil ne aisa jaal fenka pyaar ka, udne na paaye tum

कुछ और सुझाव / Related content: