गाना / Title: राम करे कहीं नैना न उलझे - raam kare kahii.n nainaa na ulajhe

चित्रपट / Film: "अज्ञात"-(Unknown)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist:

गायक / Singer(s): Iqbal Bano

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



राम करे कहीं नैना न उलझे

इन नैनन की रीत बुरी है
इन नैनों उलझाये न सुलझे

शब-ए-फ़िराक़ में यूँ दिल का दाग़ जलता है
मकान-ए-? जैसे चराग़ जलता है

चश्म-ए-पुरनम है जिगर जलता है
क्या क़यामत है के बरसात में घर जलता है

क़रार छीन लिया बेक़रार छोड़ गये
बहार ले गये याद-ए-बहार छोड़ गये

हमारे चश्म-ए-हज़ीं को न कुछ ख़याल किया
वो उम्र भर के लिये अश्क़बार छोड़ गये




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

raam kare kahii.n nainaa na ulajhe

in nainan kii riit burii hai
in naino.n ulajhaaye na sulajhe

shab-e-firaaq me.n yuu.N dil kaa daaG jalataa hai
makaan-e-? jaise charaaG jalataa hai

chashm-e-puranam hai jigar jalataa hai
kyaa qayaamat hai ke barasaat me.n ghar jalataa hai

qaraar chhiin liyaa beqaraar chho.D gaye
bahaar le gaye yaad-e-bahaar chho.D gaye

hamaare chashm-e-hazii.n ko na kuchh Kayaal kiyaa
vo umr bhar ke liye ashqabaar chho.D gaye