गाना / Title: अम्बर की एक पाक सुराही, बादल का एक जाम उठा कर - ambar kii ek paak suraahii, baadal kaa ek jaam uThaa kar

चित्रपट / Film: Kaadambari

संगीतकार / Music Director: Vilayat Ali Khan

गीतकार / Lyricist: Amrita Pritam

गायक / Singer(s): आशा भोसले-(Asha Bhosale)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
अम्बर की एक पाक सुराही, बादल का एक जाम उठा कर
घूँट चांदनी पी है हमने, बात कुफ़्र की की है हमने

कैसे इसका कर्ज़ चुकाएं माँग के अपनी मौत के हाथों
अमर की सूनी सी है हमने, बात कुफ़्र की ...

अपना इसमे कुछ भी नहीं है,
दो दिल जलते उसकी अमानत
उसको नहीं तो दी है हमने, बात कुफ़्र की ...

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
ambar kii ek paak suraahii, baadal kaa ek jaam uThaa kar
ghuu.NT chaa.ndanii pii hai hamane, baat kufr kii kii hai hamane

kaise isakaa karz chukaae.n maa.Ng ke apanii maut ke haatho.n
amar kii suunii sii hai hamane, baat kufr kii ...

apanaa isame kuchh bhii nahii.n hai,
do dil jalate usakii amaanat
usako nahii.n to dii hai hamane, baat kufr kii ...

Related content: