LyricsIndia.net

Our tributes to Khaiyyam who passed away today. Listen to his immortal songs here.

गाना / Title: कैसी चली अब के हवा तेरे शहर में - kaisii chalii ab ke havaa tere shahar me.n

चित्रपट / Film: गैर फिल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Khatir Ghaznavi

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

शेअर करें / Share Page

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
कैसी चली है अब के हवा, तेरे शहर में
बन्दे भी हो गये हैं ख़ुदा, तेरे शहर में

क्या जाने क्या हुआ कि परेशान हो गयी
एक लहज़ा रुक गयी थी सबा तेरे शहर में
 




कुछ दुश्मनी का ढब है न अब दोस्ती के तौर
दोनों का एक रंग हुआ तेरे शहर में





शायद उन्हें पता था कि ख़ातिर है अजनबी
लोगों ने उसको लूट लिया तेरे शहर में

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
kaisii chalii hai ab ke havaa, tere shahar me.n
bande bhii ho gaye hai.n Kudaa, tere shahar me.n

kyaa jaane kyaa huaa ki pareshaan ho gayii
ek lahazaa ruk gayii thii sabaa tere shahar me.n
 




kuchh dushmanii kaa Dhab hai na ab dostii ke taur
dono.n kaa ek ra.ng huaa tere shahar me.n





shaayad unhe.n pataa thaa ki Kaatir hai ajanabii
logo.n ne usako luuT liyaa tere shahar me.n

कुछ और सुझाव / Related content: