गाना / Title: ग़म बड़े आते हैं कातिल की निगाहों की तरह - Gam ba.De aate hai.n kaatil kii nigaaho.n kii tarah

चित्रपट / Film: गैर फिल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director: जगजीत सिंग-(Jagjit Singh)

गीतकार / Lyricist: Sudarshan Faakir

गायक / Singer(s): जगजीत सिंग-(Jagjit Singh)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
ग़म बड़े आते हैं कातिल की निगाहों की तरह
तुम छिपा लो मुझे, ऐ दोस्त, गुनाहों की तरह

अपनी नज़रों में गुनहगार न होते, क्यों कर
दिल ही दुश्मन हैं मुखालिफ़ के ग्वाहों की तरह

हर तरफ़ ज़ीस्त की राहों में कड़ी धूप है दोस्त
बस तेरी याद का साया है पनाहों की तरह

जिनके ख़ातिर कभी इल्ज़ाम उठाए, 'फ़ाकिर'
वो भी पेश आए हैं इनसाफ़ के शाहों की तरह

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
Gam ba.De aate hai.n kaatil kii nigaaho.n kii tarah
tum chhipaa lo mujhe, ai dost, gunaaho.n kii tarah

apanii nazaro.n me.n gunahagaar na hote, kyo.n kar
dil hii dushman hai.n mukhaalif ke gvaaho.n kii tarah

har taraf ziist kii raaho.n me.n ka.Dii dhuup hai dost
bas terii yaad kaa saayaa hai panaaho.n kii tarah

jinake Kaatir kabhii ilzaam uThaae, 'faakir'
vo bhii pesh aae hai.n inasaaf ke shaaho.n kii tarah

Related content: