गाना / Title: पत्थर है खुदा, पत्थर के सनम - patthar hai khudaa, patthar ke sanam

चित्रपट / Film: गैर फिल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director: जगजीत सिंग-(Jagjit Singh)

गीतकार / Lyricist: Sudarshan Faakir

गायक / Singer(s): जगजीत सिंग-(Jagjit Singh)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
पत्थर है खुदा, पत्थर के सनम, पत्थर के ही इनसान पाए हैं
तुम शहर-ए-मोहब्बत कहते हो, हम जान बचाके आए हैं

बुतख़ाना समझते हो जिसको, पूछो न वहाँ क्या हालत है
हम लोग वहीं से लौटे हैं, बस शुक्र है के लौट आए हैं

हम सोच रहे हैं मुद्दत से, अब उम्र गुज़ारेंगे भी तो कहाँ
सहरा में ख़ुशी के फूल नहीं, शरओं मे ग़मी के साए हैं

होंठों पे तबस्सुम हलका सा, आँखों में नमी सी है फ़ाकिर
हम अह्ल-ए-मोहब्बत पर अक्सर ऐसे भी ज़माने आए हैं

पत्थर है खुदा ...

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
patthar hai khudaa, patthar ke sanam, patthar ke hii inasaan paae hai.n
tum shahar-e-mohabbat kahate ho, ham jaan bachaake aae hai.n

butaKaanaa samajhate ho jisako, puuchho na vahaa.N kyaa haalat hai
ham log vahii.n se lauTe hai.n, bas shukr hai ke lauT aae hai.n

ham soch rahe hai.n muddat se, ab umr guzaare.nge bhii to kahaa.N
saharaa me.n Kushii ke phuul nahii.n, sharao.n me Gamii ke saae hai.n

ho.nTho.n pe tabassum halakaa saa, aa.Nkho.n me.n namii sii hai faakir
ham ahl-e-mohabbat par aksar aise bhii zamaane aae hai.n

patthar hai khudaa ...

Related content: