गाना / Title: अच्छा उन्हें देखा है बीमार हुई आँखें - achchhaa unhe.n dekhaa hai biimaar huii aa.Nkhe.n

चित्रपट / Film: Shankar Hussain

संगीतकार / Music Director: Khaiyyam

गीतकार / Lyricist: Kaifi Azmi

गायक / Singer(s): Aziz NazanBabban Khanchorus

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



अच्छा उन्हें देखा है बीमार हुई आँखें
मुर्झाई सी रहती है घबराई सी रहती हैं
माशूकों की महफ़िल में शर्माई सी रहती हैं
क्या जाने हुआ क्या है पत्थराई सी रहती हैं
अच्छा उन्हें देखा बीमार हुई आँखें

शोखी भी लुटा बैठी मस्ती भी लुटा बैठी
उठती है न झुकती हैं क्या रोग लगा बैठी
अच्छा उन्हें देखा बीमार हुई आँखें

किस तरह हटे दर से वादा है सितमगर से
कहती है लगन दिल की वो चल भी चुके घर से
है फ़ासला दम भर का फिर देख सामा घर का
वो हिलने लगा चिलमन वो पर्दा-ए-दर सरका
लो आ ही गया कोई लो चार हुई आँखें सर्शार हुई आँखें

वो नक़ाब रुख़ से उठाए क्यों
वो बहार-ए-हुस्न लुटाए क्यों
सर-ए-बज़्म जल्वा दिखाए क्यों
तुम्हें अँखियों से पिलाए क्यों
के वो अपने नशे में चूर है
जो नशे में चूर रहे सदा
उसे तेरी हाल का क्या पता
रहा यूँ ही दिल का मुआमला
मगर उसकी कोई नहीं ख़ता
तेरी आँख का ये कसूर है
आँखों पे पड़ा पर्दा लाचार हुई आँखें
अच्छा उन्हें देखा है बीमार हुई आँखें

हमने आज एक ख़्वाब देखा है ख़्वाब भी लाजवाब देखा है
कोई ताबीर इस की बतलाओ रात को आफ़्ताब देखा है
यानी ज़िंदा शराब देखोगे हुस्न को बे-नक़ाब देखोगे
रात को आफ़्ताब देखा है सुबह को माहताब देखोगे
चाँदनी में उठी घटा जैसे
दर-ए-मयख़ाना खुल गया जैसे
ये फ़साना सही हसीं तो है
नशे में रच गई अदा जैसे

कोई तुम सा भी हो ना दीवाना
तुम हक़ीकत को समझे अफ़साना
चाँदनी उस का रंग ज़ुल्फ़ घटा
और आँखें हैं जैसे मैखाना
मयख़ाने में पहुँची तो मयख़्वार हुई आँखें
गुल्नार हुई आँखें ...
अच्छा उन्हें देखा है बीमार हुई आँखें

दिल का न कहा माना गद्दार हुई आँखें
अच्छा उन्हें देखा है बीमार हुई आँखें

लाचार हुई आँखें मयख़्वार हुई आँखें
अच्छा उन्हें देखा है बीमार हुई आँखें



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

achchhaa unhe.n dekhaa hai biimaar huii aa.Nkhe.n
murjhaaii sii rahatii hai ghabaraaii sii rahatii hai.n
maashuuko.n kii mahafil me.n sharmaaii sii rahatii hai.n
kyaa jaane huaa kyaa hai pattharaaii sii rahatii hai.n
achchhaa unhe.n dekhaa biimaar huii aa.Nkhe.n

shokhii bhii luTaa baiThii mastii bhii luTaa baiThii
uThatii hai na jhukatii hai.n kyaa rog lagaa baiThii
achchhaa unhe.n dekhaa biimaar huii aa.Nkhe.n

kis tarah haTe dar se vaadaa hai sitamagar se
kahatii hai lagan dil kii vo chal bhii chuke ghar se
hai faasalaa dam bhar kaa phir dekh saamaa ghar kaa
vo hilane lagaa chilaman vo pardaa-e-dar sarakaa
lo aa hii gayaa koii lo chaar huii aa.Nkhe.n sarshaar huii aa.Nkhe.n

vo naqaab ruK se uThaae kyo.n
vo bahaar-e-husn luTaae kyo.n
sar-e-bazm jalvaa dikhaae kyo.n
tumhe.n a.Nkhiyo.n se pilaae kyo.n
ke vo apane nashe me.n chuur hai
jo nashe me.n chuur rahe sadaa
use terii haal kaa kyaa pataa
rahaa yuu.N hii dil kaa mu_aamalaa
magar usakii koii nahii.n Kataa
terii aa.Nkh kaa ye kasuur hai
aa.Nkho.n pe pa.Daa pardaa laachaar huii aa.Nkhe.n
achchhaa unhe.n dekhaa hai biimaar huii aa.Nkhe.n

hamane aaj ek Kvaab dekhaa hai Kvaab bhii laajavaab dekhaa hai
koii taabiir is kii batalaao raat ko aaftaab dekhaa hai
yaanii zi.ndaa sharaab dekhoge husn ko be-naqaab dekhoge
raat ko aaftaab dekhaa hai subah ko maahataab dekhoge
chaa.Ndanii me.n uThii ghaTaa jaise
dar-e-mayaKaanaa khul gayaa jaise
ye fasaanaa sahii hasii.n to hai
nashe me.n rach ga_ii adaa jaise

ko_ii tum saa bhii ho naa diivaanaa
tum haqiikat ko samajhe afasaanaa
chaa.Ndanii us kaa ra.ng zulf ghaTaa
aur aa.Nkhe.n hai.n jaise maikhaanaa
mayaKaane me.n pahu.Nchii to mayaKvaar huii aa.Nkhe.n
gulnaar huii aa.Nkhe.n ...
achchhaa unhe.n dekhaa hai biimaar huii aa.Nkhe.n

dil kaa na kahaa maanaa gaddaar huii aa.Nkhe.n
achchhaa unhe.n dekhaa hai biimaar huii aa.Nkhe.n

laachaar huii aa.Nkhe.n mayaKvaar huii aa.Nkhe.n
achchhaa unhe.n dekhaa hai biimaar huii aa.Nkhe.n