गाना / Title: हम चल तो पड़े हैं जज़्बा-ए-दिल - ham chal to pa.De hai.n jazbaa-e-dil

चित्रपट / Film: non-Film

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist:

गायक / Singer(s): Feroz Akhtar

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          

 

हम चल तो पड़े हैं जज़्बा\-ए\-दिल \- २
जाना है किधर मालूम नही
हम चल तो पड़े हैं जज़्बा\-ए\-दिल 
जान है किधर मालूम नही
आगाज़\-ए\-सफ़र पर नाज़ हैं \- २
अंजाम\-ए\-सफ़र मालूम नही 
हम चल तो पड़े हैं ...

(कब जाम भरे, कब दौर चले
कब आये इधर मालूम नही  ) \- २
उठे भी अगर ठहरेगी कहाँ  \- २
साक़ी की नज़र मालूम नही  
हम चल तो पड़े हैं ...

(हम अकेले की हद से भी गुज़रे  
सेहरा\-ए\-ज़ुनून भी छान लिया  ) \- २
अब और कहाँ ले जाएगी \- २  
साक़ी की नजर मालूम नही  
हम चल तो पड़े हैं ...

(मुमकिन हो तो इक लम्हे के लिये  
तकलीफ़ें तबस्सुम कर लीजै  ) \- २
हम में से अभी तक कितनो को  
महफ़ूम\-ए\-सेहर मालूम नही  

हम चल तो पड़े हैं जज़्बा\-ए\-दिल  
जाना है किधर मालूम नही  

जज़बात के सौ  
(जज़बात के सौ आलम गुज़रे  
अहसास की सदियां बीत गईं  ) \- २
आँखों से अभी उन आँखों तक \- २  
कितना है सफ़र मालूम नही  
आँखों से अभी उन आँखों तक  
कितना है सफ़र मालूम नही  

हम चल तो पड़े हैं जज़्बा\-ए\-दिल  



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
       

ham chal to pa.De hai.n jazbaa\-e\-dil \- 2
jaanaa hai kidhar maaluum nahii
ham chal to pa.De hai.n jazbaa\-e\-dil 
jaana hai kidhar maaluum nahii
aagaaz\-e\-safar par naaza hai.n \- 2
a.njaam\-e\-safar maaluum nahii 
ham chal to pa.De hai.n ...

(kab jaam bhare, kab daur chale
kab aaye idhar maaluum nahii  ) \- 2
uThe bhI agar Thaharegii kahaa.N  \- 2
saaqii kii nazar maaluum nahii  
ham chal to pa.De hai.n ...

(ham akele kii had se bhI guzare  
seharaa\-e\-zunuun bhI chhaan liyaa  ) \- 2
ab aur kahaa.N le jaaegii \- 2  
saaqii kii najar maaluum nahii  
ham chal to pa.De hai.n ...

(mumakin ho to ik lamhe ke liye  
takaliife.n tabassum kar lIjai  ) \- 2
ham me.n se abhii tak kitano ko  
mahafuum\-e\-sehar maaluum nahii  

ham chal to pa.De hai.n jazbaa\-e\-dil  
jaanaa hai kidhar maaluum nahii  

jazabaat ke sau  
(jazabaat ke sau aalam guzare  
ahasaas kii sadiyaa.n bIt gaI.n  ) \- 2
aa.Nkho.n se abhii un aa.Nkho.n tak \- 2  
kitanaa hai safar maaluum nahii  
aa.Nkho.n se abhii un aa.Nkho.n tak  
kitanaa hai safar maaluum nahii  

ham chal to pa.De hai.n jazbaa\-e\-dil