गाना / Title: चन्दा सूरज लाखों तारे - chandaa suuraj laakho.n taare

चित्रपट / Film: Vande Mataram (Non-Film)

संगीतकार / Music Director: ए. आर. रहमान-(A. R. Rahman)

गीतकार / Lyricist:

गायक / Singer(s): Nusrat Fateh Ali Khan

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




चन्दा सूरज लाखों तारे
हैं जब तेरे ही ये सारे
किस बात पर होती है फिर तक़रारे

खिंची हैं लकीरें
इस ज़मीन पे, पर न खींचो देखो
बीच में दो दिलों के है दीवारे

दुनिया में कहीं भी, दर्द से कोई भी

करते तो हमको यहाँ पे
एहसास उसके ज़ख्मों क हो के
अपना भी दिल भर भर लायें
रोये न कहें

दूरी क्यों दिलों में रहें
फ़ासलें क्यों बढ़ते रहें
प्यारी है ज़िंदगी है प्यारा जहाँ

रिश्ते बड़ी मुश्किलों से बनते हैं
यहाँ पे लेकिन
टूटने के लिये, बस एक ही लम्हा

इश्क़ दवा है हर एक दर्द की
ज़ंजीर इश्क़ है हर एक रिश्ते की
इश्क़ सारि हदों को तोड़ डाले
इश्क़ तो दुनिया को पल में मिटा भी ले
इश्क़ है जो सारे जहाँ को अमन भी दे

रौनक है इश्क़ से ही
सारे आलम की

चन्दा सूरज लाखों तारे
हैं जब तेरे ही ये सारे
किस बात पर होती हैं फिर तक़रारे

खिंची हैं लकीरें
इस ज़मीन पे, पर न खींचो देखो
बीच में दो दिलों के है दीवारे

दुनिया में कहीं भी, दर्द से कोई भी




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


chandaa suuraj laakho.n taare
hai.n jab tere hii ye saare
kis baat par hotii hai phir taqaraare

khi.nchii hai.n lakiire.n
is zamiin pe, par na khii.ncho dekho
biich me.n do dilo.n ke hai diivaare

duniyaa me.n kahii.n bhii, dard se koii bhii

karate to hamako yahaa.N pe
ehasaas usake zakhmo.n ka ho ke
apanaa bhii dil bhar bhar laaye.n
roye na kahe.n

duurii kyo.n dilo.n me.n rahe.n
faasale.n kyo.n ba.Dhate rahe.n
pyaarii hai zi.ndagii hai pyaaraa jahaa.N

rishte ba.Dii mushkilo.n se banate hai.n
yahaa.N pe lekin
TuuTane ke liye, bas ek hii lamhaa

ishq davaa hai har ek dard kii
za.njiir ishq hai har ek rishte kii
ishq saari hado.n ko to.D Daale
ishq to duniyaa ko pal me.n miTaa bhii le
ishq hai jo saare jahaa.N ko aman bhii de

raunak hai ishq se hii
saare aalam kii

chandaa suuraj laakho.n taare
hai.n jab tere hii ye saare
kis baat par hotii hai.n phir taqaraare

khi.nchii hai.n lakiire.n
is zamiin pe, par na khii.ncho dekho
biich me.n do dilo.n ke hai diivaare

duniyaa me.n kahii.n bhii, dard se koii bhii