गाना / Title: खुशियाँ और ग़म सहती है फिर भी ये चुप रहती है - khushiyaa.N aur Gam sahatii hai phir bhii ye chup rahatii hai

चित्रपट / Film: Mann

संगीतकार / Music Director: Sanjeev-Darshan

गीतकार / Lyricist: समीर-(Sameer)

गायक / Singer(s): Udit Narayanअनुराधा पौडवाल-(Anuradha Paudwal)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



खुशियाँ और ग़म सहती है फिर भी ये चुप रहती है
अब तक किसी ने न जाना, ज़िंदगी क्या कहती है

अपनी कभी तो कभी अजनबी
आँसु कभी तो कभी है हँसी
दरिया कभी तो कभी तिश्नगी
लगति है ये तो
खुशियाँ और ग़म सहती है   ...

खामोशियों की धीमी सदा है
ये ज़िंदगी तो, रब की दुआ है
छू के किसी ने इसको, देखा कभी न
अहसास की है खुशबू, महकी हवा है
खुशियाँ और ग़म सहती है   ...

मन से कहो तुम, मन की सुनो तुम
मन मीत कोई, मन का चुनो तुम
कुछ भी कहेगी दुनिया
दुनिया को छोड़ो
पलकों में सजाके झिलमिल सपने बुनो तुम
खुशियाँ और ग़म सहती है   ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

khushiyaa.N aur Gam sahatii hai phir bhii ye chup rahatii hai
ab tak kisii ne na jaanaa, zi.ndagii kyaa kahatii hai

apanii kabhii to kabhii ajanabii
aa.Nsu kabhii to kabhii hai ha.Nsii
dariyaa kabhii to kabhii tishnagii
lagati hai ye to
khushiyaa.N aur Gam sahatii hai   ...

khaamoshiyo.n kii dhiimii sadaa hai
ye zi.ndagii to, rab kii duaa hai
chhuu ke kisii ne isako, dekhaa kabhii na
ahasaas kii hai khushabuu, mahakii havaa hai
khushiyaa.N aur Gam sahatii hai   ...

man se kaho tum, man kii suno tum
man miit koii, man kaa chuno tum
kuchh bhii kahegii duniyaa
duniyaa ko chho.Do
palako.n me.n sajaake jhilamil sapane buno tum
khushiyaa.N aur Gam sahatii hai   ...