गाना / Title: जिहाल-ए-मस्ती, मकुन-ब-रन्जिश - jihaal-e-mastii, makun-b-ranjish

चित्रपट / Film: Gulaami

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: गुलजार-(Gulzar)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)Shabbir Kumar

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



जिहाल\-ए\-मस्ती मकुन\-ब\-रन्जिश,
बहाल\-ए\-हिज्र बेचारा दिल है

सुनाई देती है जिसकी धड़कन 
तुम्हारा दिल या हमारा दिल है 

वो आके पहलू में ऐसे बैठे 
के शाम रंगीन हो गई है (३) 
ज़रा ज़रा सी खिली तबीयत 
ज़रा सी ग़मगीन हो गई है 

(कभी कभी शाम ऐसे ढलती है 
के जैसे घूँघट उतर रहा है ) \- २
तुम्हारे सीने से उठ था धुआँ 
हमारे दिल से गुज़ार रहा है 

ये शर्म है या हया है क्या है 
नजर उठाते ही झुक गयी है 
तुम्हारी पलकों से गिरके शबनम 
हमारी आँखों में रुक गयी है 



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

jihaal\-e\-mastii makun\-b\-ranjish,
bahaal\-e\-hijr bechaaraa dil hai

sunaaI detii hai jisakii dha.Dakan 
tumhaaraa dil yA hamaaraa dil hai 

vo aake pahaluu me.n aise baiThe 
ke shaam ra.ngiin ho ga_ii hai (3) 
zaraa zaraa sI khilii tabiiyat 
zaraa sI Gamagiin ho ga_ii hai 

(kabhI kabhI shaam aise Dhalatii hai 
ke jaise ghU.NghaT utar rahaa hai ) \- 2
tumhaare siine se uTh thaa dhuaa.N 
hamaare dil se guzaar rahaa hai 

ye sharm hai yA hayaa hai kyA hai 
najar uThaate hii jhuk gayii hai 
tumhaarii palako.n se girake shabanam 
hamaarii aa.Nkho.n me.n ruk gayii hai