गाना / Title: तेरे प्यार का आसरा चाहता हूँ, वफ़ा कर रहा हूँ - tere pyaar kaa aasaraa chaahataa huu.N, vafaa kar rahaa huu.N

चित्रपट / Film: Dhool Ka Phool

संगीतकार / Music Director: N Dutta

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)महेन्द्र कपूर-(Mahendra Kapoor)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



तेरे प्यार का आसरा चाहता हूँ
वफ़ा कर रहा हूँ वफ़ा चाहता हूँ

हसीनो से अहद\-ए\-वफ़ा चाहते हो
बड़े नासमझ हो ये क्या चाहते हो

१) तेरे नर्म बालों में तारे सजा के
तेरे शोख कदमों में कलियां बिछा के
मोहब्बत का छोटा सा मन्दिर बना के
तुझे रात दिन पूजना चाहता हूँ, वफ़ा ...

२) ज़रा सोच लो दिल लगाने से पहले
कि खोना भी पड़ता है पाने के पहले
इजाज़त तो ले लो ज़माने से पहले
कि तुम हुस्न को पूजना चाहते हो, बड़े ...

३) कहाँ तक जियें तेरी उल्फ़त के मारे
गुज़रती नहीं ज़िन्दगी बिन सहारे
बहुत हो चुके दूर रहकर इशारे
तुझे पास से देखना चाहता हूँ, वफ़ा ...

४) मोहब्बत की दुश्मन है सारी खुदाई
मोहब्बत की तक़दीर में है जुदाई
जो सुनते नहीं हैं दिलों की दुहाई
उन्हीं से मुझे माँगना चाहते हो, बड़े ...

५) दुपट्टे के कोने को मुँह में दबा के
ज़रा देख लो इस तरफ़ मुस्कुरा के
मुझे लूट लो मेरे नज़दीक आ के
कि मैं मौत से खेलना चाहता हूँ, वफ़ा ...

६) गलत सारे दावें गलत सारी कसमें
निभेंगी यहाँ कैसे उल्फ़त कि रस्में
यहाँ ज़िन्दगी है रिवाज़ों के बस में
रिवाज़ों को तुम तोड़ना चाहते हो, बड़े ...

७) रिवाज़ों की परवाह ना रस्मों का डर है
तेरी आँख के फ़ैसले पे नज़र है
बला से अगर रास्ता पुर्खतर है
मैं इस हाथ को थामना चाहता हूँ, वफ़ा ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

tere pyaar kaa aasaraa chaahataa huu.N
vafaa kar rahaa huu.N vafaa chaahataa huu.N

hasiino se ahad\-e\-vafaa chaahate ho
ba.De naasamajh ho ye kyaa chaahate ho

1) tere narm baalo.n me.n taare sajaa ke
tere shokh kadamo.n me.n kaliyaa.n bichhaa ke
mohabbat kaa chhoTaa saa mandir banaa ke
tujhe raat din pUjanaa chaahataa huu.N, vafaa ...

2) zaraa soch lo dil lagaane se pahale
ki khonaa bhii pa.Dataa hai paane ke pahale
ijaazat to le lo zamaane se pahale
ki tum husn ko pUjanaa chaahate ho, ba.De ...

3) kahaa.N tak jiye.n terii ulfat ke maare
guzaratii nahii.n zindagii bin sahaare
bahut ho chuke duur rahakar ishaare
tujhe paas se dekhanaa chaahataa huu.N, vafaa ...

4) mohabbat kii dushman hai saarii khudaaii
mohabbat kii taqadiir me.n hai judaaii
jo sunate nahii.n hai.n dilo.n kii duhaaii
unhii.n se mujhe maa.Nganaa chaahate ho, ba.De ...

5) dupaTTe ke kone ko mu.Nh me.n dabaa ke
zaraa dekh lo is taraf muskuraa ke
mujhe lUT lo mere nazadiik aa ke
ki mai.n maut se khelanaa chaahataa huu.N, vafaa ...

6) galat saare daave.n galat saarii kasame.n
nibhe.ngii yahaa.N kaise ulfat ki rasme.n
yahaa.N zindagii hai rivaazo.n ke bas me.n
rivaazo.n ko tum to.Danaa chaahate ho, ba.De ...

7) rivaazo.n kii paravaah naa rasmo.n kaa Dar hai
terii aa.Nkh ke faisale pe nazar hai
balaa se agar raastaa purkhatar hai
mai.n is haath ko thaamanaa chaahataa huu.N, vafaa ...