गाना / Title: देखा एक ख़्वाब तो ये सिलसिले हुए - dekhaa ek Kvaab to ye silasile hue

चित्रपट / Film: Silsila

संगीतकार / Music Director: Shiv-Hari

गीतकार / Lyricist: जावेद अख्तर-(Javed Akhtar)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)किशोर कुमार-(Kishore Kumar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



देखा एक ख़्वाब तो ये सिलसिले हुए
दूर तक निगाहों में हैं गुल खिले हुए
ये ग़िला है आप की निगाहों में
फूल भी हों दर्मियां तो फ़ासले हुए
देखा एक ...

मेरी साँसों में बसी ख़ुशबू तेरी
ये तेरे प्यार की है जादुगरी
तेरी आवाज़ है हवाओं में
प्यार का रँग है फ़िज़ाओं में
धड़कनों में तेरे गीत हैं खिले हुए
क्या कहूँ के शर्म से हैं लब सिले हुए
देखा एक ख़्वाब ...

मेरा दिल है तेरी पनाहों में
अब छुपा लूँ मैं तुझे बाहों में
तेरी तस्वीर है निगाहों में
दूर तक रोशनी है राहों में
कल अगर न रोशनी के काफ़िले हुए
प्यार के हज़ार दीप हैं जले हुए
देखा एक ख़्वाब ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

dekhaa ek Kvaab to ye silasile hue
duur tak nigaaho.n me.n hai.n gul khile hue
ye Gilaa hai aap kii nigaaho.n me.n
phuul bhii ho.n darmiyaa.n to faasale hue
dekhaa ek ...

merii saa.Nso.n me.n basii Kushabuu terii
ye tere pyaar kii hai jaadugarii
terii aavaaz hai havaao.n me.n
pyaar kaa ra.Ng hai fizaao.n me.n
dha.Dakano.n me.n tere giit hai.n khile hue
kyaa kahuu.N ke sharm se hai.n lab sile hue
dekhaa ek Kvaab ...

meraa dil hai terii panaaho.n me.n
ab chhupaa luu.N mai.n tujhe baaho.n me.n
terii tasviir hai nigaaho.n me.n
duur tak roshanii hai raaho.n me.n
kal agar na roshanii ke kaafile hue
pyaar ke hazaar diip hai.n jale hue
dekhaa ek Kvaab ...