गाना / Title: रंज की जब गुफ़्तगू होने लगी - ra.nj kii jab guftaguu hone lagii

चित्रपट / Film: Haseen Lamhen 5 (Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Daag Dehalwi

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



रंज की जब गुफ़्तगू होने लगी
आप से तुम तुम से तू होने लगी

चाहिये पैग़ाम बर दोनों तरफ़
लुत्फ़ क्या जब दू\-ब\-दू होने लगी

मेरी रुस्वाई की नौबत आ गई
उनकी शोहरत कू\-ब\-कू होने लगी

ना\-उमीदी बढ़ गई है इस कदर
आरज़ू की आरज़ू होने लगी

अबके मिल कर देखिये क्या रंग हो
फिर हमारी जुस्तजू होने लगी

'दाग़' इतराये हुये फिरते हैं आज
शायद उनकी आबरू होने लगी



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ra.nj kii jab guftaguu hone lagii
aap se tum tum se tuu hone lagii

chaahiye paiGaam bar dono.n taraf
lutf kyaa jab duu\-ba\-duu hone lagii

merii ruswaa_ii kii naubat aa ga_ii
unakii shoharat kuu\-ba\-kuu hone lagii

naa\-umiidii ba.Dh ga_ii hai is kadar
aarazuu kii aarazuu hone lagii

abake mil kar dekhiye kyaa ra.ng ho
phir hamaarii justajuu hone lagii

'daaG' itaraaye huye phirate hai.n aaj
shaayad unakii aabaruu hone lagii