गाना / Title: चुपके चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है - chupake chupake raat din aa.Nsuu bahaanaa yaad hai

चित्रपट / Film: Haseen Lamhen 5 (Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Hasrat Mohani

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




अपनी आवाज़ की लर्ज़िश पे तो क़ाबू पा लो
प्यार के बोल तो होंठों से निकल जाते हैं
अपने तेवर तो सम्भालो के कोई ये न कहे
दिल बदलते हैं तो चेहरे भी बदल जाते हैं

चुपके चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है


अब मैं समझा तेरे रुख़सार पे तिल का मतलब
दौलत\-ए\-हुस्न पे दरबान बिठा रखा है
गर सियाह\-बख़्त ही होना था नसीबों में मेरे
ज़ुल्फ़ होता तेरे रुख़सार पे या तिल होता

चुपके चुपके रात दिन आँसू बहाना याद है
हमको अब तक आशिक़ी का वो ज़माना याद है

तुझसे मिलते ही वो कुछ बेबाक हो जाना मेरा
और तेरा दाँतों में वो उँगली दबाना याद है

चोरी चोरी हमसे तुम आ कर मिले थे जिस जगह
मुद्दतें गुज़रीं पर अब तक वो ठिकाना याद है

दोपहर की धूप में मेरे बुलाने के लिये
वो तेरा कोठे पे नंगे पाँव आना याद है

खैंच लेना वो मेरा पर्दे का कोना दफ़तन
और दुपट्टे से तेरा वो मुँह छुपाना याद है

तुझको जब तन्हा कभी पाना तो अज़\-राह\-ए\-लिहाज़
हाल\-ए\-दिल बातों ही बातों में जताना याद है

आ गया गर वस्ल की शब भी कहीं ज़िक्र\-ए\-फ़िराक़
वो तेरा रो रो के भी मुझको रुलाना याद है


वाँ हज़ाराँ इज़्तिराब, याँ सद\-हज़ाराँ इश्तियाक
तुझको वो पहले\-पहल दिल का लगाना याद है

जान कर होना तुझे वो कसद\-ए\-पा\-बोसी मेरा
और तेरा ठुकरा के सर वो मुस्कुराना याद है

जब सिवा मेरे तुम्हारा कोई दीवाना न था
सच कहो कुछ तुमको अब भी वो ज़माना याद है

ग़ैर की नज़रों से बच कर सबकी मर्ज़ी के ख़िलाफ़
वो तेरा चोरी छिपे रातों को आना याद है

देखना मुझको जो बरगश्ता सौ नाज़ से
जब मना लेना तो फिर खुद रूठ जाना याद है

शौक़ में मेहंदी के वो बे\-दस्त\-ओ\-पा होना तेरा
और मेरा वो छेड़ना वो गुदगुदाना याद है



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


apanii aawaaz kii larzish pe to qaabuu paa lo
pyaar ke bol to ho.nTho.n se nikal jaate hai.n
apane tewar to sambhaalo ke ko_ii ye na kahe
dil badalate hai.n to chehare bhii badal jaate hai.n

chupake chupake raat din aa.Nsuu bahaanaa yaad hai


ab mai.n samajhaa tere ruKasaar pe til kaa matalab
daulat\-e\-husn pe darabaan biThaa rakhaa hai
gar siyaah\-baKt hii honaa thaa nasiibo.n me.n mere
zulf hotaa tere ruKasaar pe yaa til hotaa

chupake chupake raat din aa.Nsuu bahaanaa yaad hai
hamako ab tak aashiqii kaa wo zamaanaa yaad hai

tujhase milate hii wo kuchh bebaak ho jaanaa meraa
aur teraa daa.Nto.n me.n wo u.Ngalii dabaanaa yaad hai

chorii chorii hamase tum aa kar mile the jis jagah
muddate.n guzarii.n par ab tak wo Thikaanaa yaad hai

dopahar kii dhuup me.n mere bulaane ke liye
wo teraa koThe pe na.nge paa.Nv aanaa yaad hai

khai.nch lenaa wo meraa parde kaa konaa daf_atan
aur dupaTTe se teraa wo mu.Nh chhupaanaa yaad hai

tujhako jab tanhaa kabhii paanaa to az\-raah\-e\-lihaaz
haal\-e\-dil baato.n hii baato.n me.n jataanaa yaad hai

aa gayaa gar wasl kii shab bhii kahii.n zikr\-e\-firaaq
wo teraa ro ro ke bhii mujhako rulaanaa yaad hai


waa.N hazaaraa.N iztiraab, yaa.N sad\-hazaaraa.N ishtiyaak
tujhako wo pahale\-pahal dil kaa lagaanaa yaad hai

jaan kar honaa tujhe wo kasad\-e\-paa\-bosii meraa
aur teraa Thukaraa ke sar wo muskuraanaa yaad hai

jab sivaa mere tumhaaraa ko_ii diiwaanaa na thaa
sach kaho kuchh tumako ab bhii wo zamaanaa yaad hai

Gair kii nazaro.n se bach kar sabakii marzii ke Kilaaf
wo teraa chorii chhipe raato.n ko aanaa yaad hai

dekhanaa mujhako jo baragashtaa sau naaz se
jab manaa lenaa to phir khud ruuTh jaanaa yaad hai

shauq me.n meha.ndii ke wo be\-dast\-o\-paa honaa teraa
aur meraa wo chhe.Danaa wo gudagudaanaa yaad hai