गाना / Title: हक़\-ए\-वफ़ा जो हम जताने लगे - haq\-e\-wafaa jo ham jataane lage

चित्रपट / Film: गैर फ़िल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Hali

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



हक़\-ए\-वफ़ा जो हम जताने लगे
आप कुछ कह के मुस्कुराने लगे

हमको जीना पड़ेगा फ़ुर्क़त में
वो अगर हिम्मत आज़माने लगे

डर है मेरी ज़ुबाँ न खुल जाये
अब वो बातें बहुत बताने लगे

जान बचती नज़र नहीं आती
ग़ैर उल्फ़त बहुत जताने लगे

तुमको करना पड़ेगा उज्र वफ़ा
हम अगर दर्द\-ए\-दिल सुनाने लगे

बहुत मुश्किल है शेवा\-ए\-तस्लीम
हम भी आख़िर को जी चुराने लगे

वक़्त\-ए\-रुख़्सत था सख़्त 'हाली' पर
हम भी बैठे थे जब वो जाने लगे



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

haq\-e\-wafaa jo ham jataane lage
aap kuchh kah ke muskuraane lage

hamako jiinaa pa.Degaa furqat me.n
wo agar himmat aazamaane lage

Dar hai merii zubaa.N na khul jaaye
ab wo baate.n bahut bataane lage

jaan bachatii nazar nahii.n aatii
Gair ulfat bahut jataane lage

tumako karanaa pa.Degaa ujr wafaa
ham agar dard\-e\-dil sunaane lage

bahut mushkil hai shevaa\-e\-tasliim
ham bhii aaKir ko jii churaane lage

vaqt\-e\-ruKsat thaa saKt 'haalii' par
ham bhii baiThe the jab wo jaane lage