गाना / Title: वोही मिज़ाज वोही चाल है ज़माने की - wohii mizaaj wohii chaal hai zamaane kii

चित्रपट / Film: Once More (Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Saeed Raahi

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




एक हमें आवारा कहना कोई बड़ा इल्ज़ाम नहीं
दुनिया वाले दिल वालों को और बहुत कुछ कहते हैं

वोही मिज़ाज वोही चाल है ज़माने की
हमें भी हो गई आदत फ़रेब खाने की

मैं सारे शहर में तन्हा नहीं हुआ रुस्वा
सज़ा मिली है तुम्हें भी तो दिल लगाने की

शराब मिलती है लेकिन हमारी प्यास से कम
अजीब रस्म है साक़ी यहाँ पिलाने की

नज़र बचा के तुम्हें देखता हूँ महफ़िल में
नज़र लगे न कहीं तुमको इस दिवाने की



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


ek hame.n aawaaraa kahanaa ko_ii ba.Daa ilzaam nahii.n
duniyaa waale dil waalo.n ko aur bahut kuchh kahate hai.n

wohii mizaaj wohii chaal hai zamaane kii
hame.n bhii ho ga_ii aadat fareb khaane kii

mai.n saare shahar me.n tanhaa nahii.n hu_aa ruswaa
sazaa milii hai tumhe.n bhii to dil lagaane kii

sharaab milatii hai lekin hamaarii pyaas se kam
ajiib rasm hai saaqii yahaa.N pilaane kii

nazar bachaa ke tumhe.n dekhataa huu.N mahafil me.n
nazar lage na kahii.n tumako is diwaane kii