गाना / Title: अभी तो मैं जवान हूँ - abhii to mai.n javaan huu.N

चित्रपट / Film: The One And Only Malika Pukraj (non-Film

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Hafeez Jalandhari

गायक / Singer(s): Mallika Pukhraj

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



अभी तो मैं जवान हूँ	\- ३

हवा भी ख़ुशगवार है, गुलों पे भी निखार है
तरन्नुमें हज़ार हैं, बहार पुरबहार है
कहाँ चला है साक़िया, (इधर तो लौट इधर तो आ) \- ३
अरे, यह देखता है क्या? उठा सुबू, सुबू उठा
सुबू उठा, पियाला भर पियाला भर के दे इधर
चमन की सिम्त कर नज़र, समा तो देख बेख़बर
वो काली\-काली बदलियाँ \- २, उफ़क़ पे हो गई अयां
वो इक हजूम\-ए\-मैकशां, है सू\-ए\-मैकदा रवां
ये क्या गुमां है बदगुमां, समझ न मुझको नातवां
ख़याल\-ए\-ज़ोह्द अभी कहाँ? अभी तो मैं जवान हूँ
अभी तो मैं जवान हूँ \- २

इबादतों का ज़िक्र है, निजात की भी फ़िक्र है
जुनून है सबाब का, ख़याल है अज़ाब का
मगर सुनो तो शेख़ जी, अजीब शय हैं आप भी
भला शबाब\-ओ\-आशिक़ी, अलग हुए भी हैं कभी
हसीन जलवारेज़ हो, अदाएं फ़ितनख़ेज़ हो
हवाएं इत्र्बेज़ हों, तो शौक़ क्यूँ न तेज़ हो?
निगारहा\-ए\-फ़ितनागर \- २, कोई इधर कोई उधर \- २
उभारते हो ऐश पर, तो क्या करे कोई बशर
चलो जी क़िस्सा मुख़्तसर, तुम्हारा नुक़्ता\-ए\-नज़र
दुरुस्त है तो हो मगर, अभी तो मैं जवान हूँ 
अभी तो मैं जवान हूँ \- २

ये ग़श्त कोहसार की, ये सैर जू\-ए\-वार की
ये बुलबुलों के चहचहे, ये गुलरुख़ों के क़हक़हे
किसी से मेल हो गया, तो रंज\-ओ\-फ़िक्र खो गया
कभी जो वक़्त सो गया, ये हँस गया वो रो गया
ये इश्क़ की कहानियाँ, ये रस भरी जवानियाँ
उधर से महरबानियाँ, इधर से लन्तरानियाँ
ये आस्मान ये ज़मीं \- २, नज़्ज़राहा\-ए\-दिलनशीं
उने हयात आफ़रीं, भला मैं छोड़ दूँ यहीं
है मौत इस क़दर बरीं, मुझे न आएगा यक़ीं
नहीं\-नहीं अभी नहीं, नहीं\-नहीं अभी नहीं
अभी तो मैं जवान हूँ \- ३

न ग़म कशोद\-ओ\-बस्त का, बलंद का न पस्त क
न बूद का न हस्त का न वादा\-ए\-अलस्त का
उम्मीद और यास गुम, हवास गुम क़यास गुम
नज़र से आस\-पास गुम, हमन बजुज़ गिलास गुम
न मय में कुछ कमी रहे, कदा से हमदमी रहे
नशिस्त ये जमी रहे, यही हमा\-हमी रहे
वो राग छेड़ मुतरिबा, तरवफ़िज़ा आलमरुबा
असर सदा\-ए\-साज़ का, जिग़र में आग दे लगा
हर इक लब पे हो सदा, न हाथ रोक साक़िया




पिलाए जा पिलाए जा, पिलाए जा पिलाए जा
अभी तो मैं जवान हूँ \- ३



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

abhii to mai.n javaan huu.N	\- 3

havaa bhii Kushagavaar hai, gulo.n pe bhii nikhaar hai
tarannume.n hazaar hai.n, bahaar purabahaar hai
kahaa.N chalaa hai saaqiyaa, (idhar to lauT idhar to aa) \- 3
are, yah dekhataa hai kyaa? uThaa subuu, subuu uThaa
subuu uThaa, piyaalaa bhar piyaalaa bhar ke de idhar
chaman kii simt kar nazar, samaa to dekh beKabar
vo kaalii\-kaalii badaliyaa.N \- 2, ufaq pe ho ga_ii ayaa.n
vo ik hajuum\-e\-maikashaa.n, hai suu\-e\-maikadaa ravaa.n
ye kyaa gumaa.n hai badagumaa.n, samajh na mujhako naatavaa.n
Kayaal\-e\-zohd abhii kahaa.N? abhii to mai.n javaan huu.N
abhii to mai.n javaan huu.N \- 2

ibaadato.n kaa zikr hai, nijaat kii bhii fikr hai
junuun hai sabaab kaa, Kayaal hai azaab kaa
magar suno to sheK jii, ajiib shay hai.n aap bhii
bhalaa shabaab\-o\-aashiqii, alag hue bhii hai.n kabhii
hasiin jalavaarez ho, adaae.n fitanaKez ho
havaae.n itr_bez ho.n, to shauq kyuu.N na tez ho?
nigaarahaa\-e\-fitanaagar \- 2, koii idhar koii udhar \- 2
ubhaarate ho aish par, to kyaa kare koii bashar
chalo jii qissaa muKtasar, tumhaaraa nuqtaa\-e\-nazar
durust hai to ho magar, abhii to mai.n javaan huu.N 
abhii to mai.n javaan huu.N \- 2

ye Gasht kohasaar kii, ye sair juu\-e\-vaar kii
ye bulabulo.n ke chahachahe, ye gularuKo.n ke qahaqahe
kisii se mel ho gayaa, to ra.nj\-o\-fikr kho gayaa
kabhii jo vaqt so gayaa, ye ha.Ns gayaa vo ro gayaa
ye ishq kii kahaaniyaa.N, ye ras bharii javaaniyaa.N
udhar se maharabaaniyaa.N, idhar se lantaraaniyaa.N
ye aasmaan ye zamii.n \- 2, nazzaraahaa\-e\-dilanashii.n
une hayaat aafarii.n, bhalaa mai.n chho.D duu.N yahii.n
hai maut is qadar barii.n, mujhe na aaegaa yaqii.n
nahii.n\-nahii.n abhii nahii.n, nahii.n\-nahii.n abhii nahii.n
abhii to mai.n javaan huu.N \- 3

na Gam kashod\-o\-bast kaa, bala.nd kaa na past ka
na buud kaa na hast kaa na vaadaa\-e\-alast kaa
ummiid aur yaas gum, havaas gum qayaas gum
nazar se aas\-paas gum, haman bajuz gilaas gum
na may me.n kuchh kamii rahe, kadaa se hamadamii rahe
nashist ye jamii rahe, yahii hamaa\-hamii rahe
vo raag chhe.D mutaribaa, taravafizaa aalamarubaa
asar sadaa\-e\-saaz kaa, jiGar me.n aag de lagaa
har ik lab pe ho sadaa, na haath rok saaqiyaa




pilaae jaa pilaae jaa, pilaae jaa pilaae jaa
abhii to mai.n javaan huu.N \- 3