गाना / Title: दो दिन की ज़िंदगी कैसी है ज़िंदगी - do din kii zi.ndagii kaisii hai zi.ndagii

चित्रपट / Film: Satyakam

संगीतकार / Music Director: लक्ष्मीकांत - प्यारेलाल-(Laxmikant-Pyarelal)

गीतकार / Lyricist: Kaifi Azmi

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



दो दिन की ज़िंदगी कैसी है ज़िंदगी \-२
कोइ न ये जाने 
होऽ
भीतर अंधेरा है बाहर है रौशनी
देखें न परवाने
दो दिन की ज़िंदगी कैसी है ज़िंदगी

अरमाँ की बस्ती जाने कैसी है बस्ती
उतनी ही सूनी
होऽ
उतनी ही सूनी जितनी छायी है मस्ती
नज़रों में बाँकपन आँखों में सौ चमन
सीने में वीराने

दो दिन की ज़िंदगी कैसी है ज़िंदगी

पहले तो क्या क्या सपने दिखलाये दुनिया
फिर ख़ुद ही टूटा
होऽ
फिर ख़ुद ही टूटा सपना बन जाये दुनिया
दुनिया की चाह की, नग़मों की आह की
झूठे हैं अफ़साने

दो दिन की ज़िंदगी कैसी है ज़िंदगी
होऽ

फूलों ने देखा खिल के मुरझाना दिल का
तारों ने देखा
होऽ
तारों ने देखा जल के बुझ जाना दिल का
थे कल जो मेहरबाँ, थे कल जो राज़दाँ
निकले वो बेगाने

दो दिन की ज़िंदगी कैसी है ज़िंदगी



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

do din kii zi.ndagii kaisii hai zi.ndagii \-2
koi na ye jaane 
ho.a
bhiitar a.ndheraa hai baahar hai raushanii
dekhe.n na parawaane
do din kii zi.ndagii kaisii hai zi.ndagii

aramaa.N kii bastii jaane kaisii hai bastii
utanii hii suunii
ho.a
utanii hii suunii jitanii chhaayii hai mastii
nazaro.n me.n baa.Nkapan aa.Nkho.n me.n sau chaman
siine me.n viiraane

do din kii zi.ndagii kaisii hai zi.ndagii

pahale to kyaa kyaa sapane dikhalaaye duniyaa
phir Kud hii TuuTaa
ho.a
phir Kud hii TuuTaa sapanaa ban jaaye duniyaa
duniyaa kii chaah kii, naGamo.n kii aah kii
jhuuThe hai.n afasaane

do din kii zi.ndagii kaisii hai zi.ndagii
ho.a

phuulo.n ne dekhaa khil ke murajhaanaa dil kaa
taaro.n ne dekhaa
ho.a
taaro.n ne dekhaa jal ke bujh jaanaa dil kaa
the kal jo meharabaa.N, the kal jo raazadaa.N
nikale vo begaane

do din kii zi.ndagii kaisii hai zi.ndagii