गाना / Title: ग़म की अंधेरी रात में - Gam kii a.ndherii raat me.n

चित्रपट / Film: Sushila

संगीतकार / Music Director: C Arjun

गीतकार / Lyricist: Jaan Nisar Akhtar

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)तलत महमूद-(Talat Mahmood)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          

 

रफ़ी: ग़म की अंधेरी रात में 
दिल को ना बेक़रार कर 
सुबह ज़रूर आयेगी 
सुबह का इन्तज़ार कर 
ग़म की अंधेरी रात में 

तलत: दर्द है सारी ज़िन्दगी 
जिसका कोई सिला नहीं 
दिल को फ़रेब दीजिये 
और ये हौसला नहीं \- २

रफ़ी: खुद से तो बदग़ुमाँ ना हो 
खुद पे तो ऐतबार कर 
सुबह ज़रूर आयेगी 
सुबह का इन्तज़ार कर 
ग़म की अन्धेरी रात में 

तलत: खुद ही तड़प के रह गये 
दिल कि सदा से क्या मिला 
आग से खेलते रहे
हम को वफ़ा से क्या मिला \- २

रफ़ी: दिल की लगी बुझा ना दे 
दिल की लगी से प्यार कर 
सुबह ज़रूर आयेगी 
सुबह का इन्तज़ार कर 

ग़म की अंधेरी रात में ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
       

rafii: Gam kii a.ndherii raat me.n 
dil ko nA beqaraar kar 
subah zaruur aayegii 
subah kA intazaar kar 
Gam kii a.ndherI raat me.n 

talat: dard hai saarii zindagI 
jisakaa koI silaa nahii.n 
dil ko fareb dIjiye 
aur ye hausalaa nahii.n \- 2

rafii: khud se to badaGumaa.N nA ho 
khud pe to aitabaar kar 
subah zaruur aayegii 
subah kA intazaar kar 
Gam kii andherI raat me.n 

talat: khud hii ta.Dap ke rah gaye 
dil ki sadaa se kyaa milaa 
aag se khelate rahe
ham ko vafaa se kyaa milaa \- 2

rafii: dil kI lagii bujhaa nA de 
dil kI lagii se pyaar kar 
subah zaruur aayegii 
subah kA intazaar kar 

Gam kii a.ndherI raat me.n ...