गाना / Title: उल्फ़त की नयी मंज़िल को चला - ulfat kii nayii ma.nzil ko chalaa

चित्रपट / Film: Kamasutra

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Qatil Shifai

गायक / Singer(s): Iqbal BanoShobha Gurtu

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



उल्फ़त की नयी मंज़िल को चला तू बाहें डाल के बाहों में
दिल तोड़ने वाले देख के चल, हम भी तो पड़े हैं राहों में

क्या क्या न जफ़ाएं दिल पे सहीं, पर तुम पे कोई शिक़वा ना किया
इस जुमर् को भी शामिल कर लो मेरे मासूम ग़ुनाहों में

जब चांदनी रातों में तू ने, ख़ुद हम से किया इक़रार\-ए\-वफ़ा
फिर आज हैं क्यों हम बेगाने, तेरी बेरहम निग़ाहों में

हम भी हैं वही तुम भी हो वही ये अपनी अपनी क़िसमत है
तुम खेल रहे हो ख़्हुशियों से, हम डूब गये हैं आहों में

दिल तोड़ने वाले देख के चल, हम भी तो पड़े हैं राहों में




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ulfat kii nayii ma.nzil ko chalaa tuu baahe.n Daal ke baaho.n me.n
dil to.Dane vaale dekh ke chal, ham bhii to pa.De hai.n raaho.n me.n

kyaa kyaa na jafaae.n dil pe sahii.n, par tum pe koii shiqavaa naa kiyaa
is jum.r ko bhii shaamil kar lo mere maasuum Gunaaho.n me.n

jab chaa.ndanii raato.n me.n tuu ne, Kud ham se kiyaa iqaraar\-e\-vafaa
phir aaj hai.n kyo.n ham begaane, terii beraham niGaaho.n me.n

ham bhii hai.n vahii tum bhii ho vahii ye apanii apanii qisamat hai
tum khel rahe ho Khushiyo.n se, ham Duub gaye hai.n aaho.n me.n

dil to.Dane vaale dekh ke chal, ham bhii to pa.De hai.n raaho.n me.n