गाना / Title: अंदोह से हुई न रिहाई तमाम शब - a.ndoh se hu_ii na rihaa_ii tamaam shab

चित्रपट / Film: गैर फ़िल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Meer

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



अंदोह से हुई न रिहाई तमाम शब
मुझ दिलज़दा को नींद न आई तमाम शब

चश्मक चली गई थी सितारों की सुबह तक
की आस्माँ से दीदा\-वराई तमाम शब

बैठे ही गुज़री वादे की शब वो न आ फिरा
ईज़ा अजब तरह की उठाई तमाम शब

जब मैं शुरू क़िस्सा किया आँखें खोल दीं
यक़ीनी थी मुझको चस्म\-नुमाई तमाम शब

वक़्त\-ए\-सियह ने देर में कल यावरी सी की
थी दुश्मनी से इसकी लड़ाई तमाम शब

तारे से, तेरी पलकों पे, क़तरे से अश्क़ के
देते रहे हैं 'मीर' दिखाई तमाम शब



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

a.ndoh se hu_ii na rihaa_ii tamaam shab
mujh dilazadaa ko nii.nd na aa_ii tamaam shab

chashmak chalii ga_ii thii sitaaro.n kii subah tak
kii aasmaa.N se diidaa\-waraa_ii tamaam shab

baiThe hii guzarii vaade kii shab wo na aa phiraa
iizaa ajab tarah kii uThaa_ii tamaam shab

jab mai.n shuruu qissaa kiyaa aa.Nkhe.n khol dii.n
yaqiinii thii mujhako chasm\-numaa_ii tamaam shab

waqt\-e\-siyah ne der me.n kal yaavarii sii kii
thii dushmanii se isakii la.Daa_ii tamaam shab

taare se, terii palako.n pe, qatare se ashq ke
dete rahe hai.n 'miir' dikhaa_ii tamaam shab