गाना / Title: महकी हवाओं में चारों दिशाओं में - mahakii havaa_o.n me.n chaaro.n dishaa_o.n me.n

चित्रपट / Film: Shararat

संगीतकार / Music Director: Sajid Wajid

गीतकार / Lyricist: समीर-(Sameer)

गायक / Singer(s): सोनु निगम-(Sonu Nigam)KayKay

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



हे महकी हवाओं में चारों दिशाओं में
निकला मैं आज़ाद होके
मंज़िल मेरी जाने कहां है मुझको नहीं है पता
दिल कहे झूम लूं आसमां चूम लूं

बीते दिन तन्हाई के मस्ती के पल आए हैं
यारों इस दीवाने की खुशियां वापस लाए हैं
मुझको उन वीरानों में लौट के जाना नहीं
हूं मेरा उनसे भला अब है क्या वास्ता
जो मिली हर खुशी दर्द है किस बात का
हे हे
बेखबर हो गया मैं कहां खो गया
पर परा पर पा पा पा पा
हम तो ऐसे पंछी हैं जो पिंजरे से उड़ जाते हैं
करते अपनी मरज़ी की हाथ किसी के न आते हैं
हमको सारे ज़माने का दर्द\-ओ\-गम भूल जाना है
हूं कोशिशें तेरी सारी हो जाएंगी नाकाम
चैन से ना कटेगी तेरी सुबह\-ओ\-शाम
याद उनकी जब आएगी तो रुलाएगा दिल
अब कभी ना उन्हें भूल पाएगा दिल



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

he mahakii havaa_o.n me.n chaaro.n dishaa_o.n me.n
nikalaa mai.n aazaad hoke
ma.nzil merii jaane kahaa.n hai mujhako nahii.n hai pataa
dil kahe jhuum luu.n aasamaa.n chuum luu.n

biite din tanhaa_ii ke mastii ke pal aa_e hai.n
yaaro.n is diivaane kii khushiyaa.n vaapas laa_e hai.n
mujhako un viiraano.n me.n lauT ke jaanaa nahii.n
huu.n meraa unase bhalaa ab hai kyaa vaastaa
jo milii har khushii dard hai kis baat kaa
he he
bekhabar ho gayaa mai.n kahaa.n kho gayaa
par paraa par paa paa paa paa
ham to aise pa.nchhii hai.n jo pi.njare se u.D jaate hai.n
karate apanii marazii kii haath kisii ke na aate hai.n
hamako saare zamaane kaa dard\-o\-gam bhuul jaanaa hai
huu.n koshishe.n terii saarii ho jaa_e.ngii naakaam
chain se naa kaTegii terii subah\-o\-shaam
yaad unakii jab aa_egii to rulaa_egaa dil
ab kabhii naa unhe.n bhuul paa_egaa dil