गाना / Title: कैसे कैसे लोग हमारे जी को जलाने आ जाते हैं - kaise kaise log hamaare jii ko jalaane aa jaate hai.n

चित्रपट / Film: तेरे शहर में-(Tere Sheher Mein (Pakistan))

संगीतकार / Music Director: Hasan Latif Lilak

गीतकार / Lyricist: Munir Niyazi

गायक / Singer(s): Mehdi Hasan

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



कैसे कैसे लोग हमारे जी को जलाने आ जाते हैं
अपने अपने ग़म के फ़साने हमें सुनाने आ जाते हैं

मेरे लिये ये ग़ैर हैं और मैं इनके लिये बेगाना हूँ
फिर भी ये एक रस्म\-ए\-जहाँ है जिसे निभाने आ जाते हैं

इनसे अलग मैं रह नहीं सकता इस बेदर्द ज़माने में
मेरी ये मजबुरी मुझको याद दिलाने आ जाते हैं

सबकी सुन कर चुप रहते हैं दिल की बात नहीं कहते
आते आते जीने के भी लाख बहाने आ जाते हैं



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

kaise kaise log hamaare jii ko jalaane aa jaate hai.n
apane apane Gam ke fasaane hame.n sunaane aa jaate hai.n

mere liye ye Gair hai.n aur mai.n inake liye begaanaa huu.N
phir bhii ye ek rasm\-e\-jahaa.N hai jise nibhaane aa jaate hai.n

inase alag mai.n rah nahii.n sakataa is bedard zamaane me.n
merii ye majaburii mujhako yaad dilaane aa jaate hai.n

sabakii sun kar chup rahate hai.n dil kii baat nahii.n kahate
aate aate jiine ke bhii laakh bahaane aa jaate hai.n