गाना / Title: ये दिल की लगी कम क्या होगी - ye dil kii lagii kam kyaa hogii

चित्रपट / Film: Mughal-e-Azam

संगीतकार / Music Director: नौशाद अली-(Naushad)

गीतकार / Lyricist: Shakeel

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



ये दिल की लगी कम क्या होगी 
ये इश्क़ भला कम क्या होगा 
जब रात है ऐसी मतवाली \- २ 
फिर सुबह का आलम क्या होगा \- २ 

नग़मो से बरसती है मस्ती 
छलके हैं खुशी के पैमाने \- २ 
आज ऐसी बहारें आई हैं 
कल जिनके बनेंगे अफ़साने \- २ 
अब इसे ज्यादा और हसीं ये प्यार का मौसम क्या होगा \- २ 
जब रात है ऐसी मतवाली 
फिर सुबह का आलम क्या होगा \- २ 

ये आज का रंग और ये महफ़िल 
दिल भी है यहाँ दिलदार भी है \- २ 
आँखों में कयामत के जलवे 
सीने में सुलगता प्यार भी है \- २ 
इस रंग में कोई जी ले अगर मरने का उसे ग़म क्या होगा \- २ 
जब रात है ऐसी मतवाली 
फिर सुबह का आलम क्या होगा \- २ 

हालत है अजब दीवानों की 
अब खैर नहीं परवानों की \- २ 
अन्जाम\-ए\-मोहब्बत क्या कहिये 
लय बढ़ने लगी अरमानों की \- २ 
ऐसे में जो पायल टूट गयी फिर ऐ मेरे हमदम क्या होगा \- २ 
जब रात है ऐसी मतवाली \- २ 
फिर सुबह का आलम क्या होगा \- २ 




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ye dil kii lagii kam kyaa hogii 
ye ishq bhalaa kam kyaa hogaa 
jab raat hai aisI matavaalii \- 2 
phir subah kA aalam kyaa hogaa \- 2 

naGamo se barasatii hai mastii 
chhalake hai.n khushI ke paimaane \- 2 
aaj aisI bahaare.n aaii hai.n 
kal jinake bane.nge afasaane \- 2 
ab ise jyaadaa aur hasii.n ye pyaar kA mausam kyaa hogaa \- 2 
jab raat hai aisI matavaalii 
phir subah kA aalam kyaa hogaa \- 2 

ye aaj kA ra.ng aur ye mahafil 
dil bhI hai yahaa.N diladaar bhI hai \- 2 
aa.Nkho.n me.n kayaamat ke jalave 
siine me.n sulagataa pyaar bhI hai \- 2 
is ra.ng me.n koI jii le agar marane kA use Gam kyaa hogaa \- 2 
jab raat hai aisI matavaalii 
phir subah kA aalam kyaa hogaa \- 2 

haalat hai ajab dIvaano.n kii 
ab khair nahii.n paravaano.n kii \- 2 
anjaam\-e\-mohabbat kyaa kahiye 
laya ba.Dhane lagI aramaano.n kii \- 2 
aise me.n jo paayal TuuT gayii phir ai mere hamadam kyaa hogaa \- 2 
jab raat hai aisI matavaalii \- 2 
phir subah kA aalam kyaa hogaa \- 2