गाना / Title: दयार\-ए\-दिल की रात में चराग़ सा जला गया - dayaar\-e\-dil kii raat me.n charaaG saa jalaa gayaa

चित्रपट / Film: Meraj-E-Ghazal (Non-Film)

संगीतकार / Music Director: Ghulam Ali

गीतकार / Lyricist: Nasir Kazmi

गायक / Singer(s): आशा भोसले-(Asha)Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



दयार\-ए\-दिल की रात में चराग़ सा जला गया
मिला नहीं तो क्या हुआ वो शक़्ल तो दिखा गया

वो दोस्ती तो ख़ैर अब नसीब\-ए\-दुश्मनाँ हुई
वो छोटी छोती रंजिशों का लुत्फ़ भी चला गया

जुदाइयों के ज़ख़्म दर्द\-ए\-ज़िंदगी ने भर दिये
तुझे भी नींद आ गई मुझे भी सब्र आ गया

पुकारती हैं फ़ुर्सतें कहाँ गईं वो सोहबतें
ज़मीं निगल गई उन्हें या आसमान खा गया

ये सुबहो की सफ़ेदियाँ ये दोपहर की ज़र्दियाँ
अब आईने में देखता हूँ मैं कहाँ चला गया

ये किस ख़ुशी की रेत पर ग़मों को नींद आ गई
वो लहर किस तरफ़ गई ये मैं कहाँ चला गया

गए दिनों की लाश पर पड़े रहोगे कब तलक
अलम्कशो उठो कि आफ़ताब सर पे आ गया



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

dayaar\-e\-dil kii raat me.n charaaG saa jalaa gayaa
milaa nahii.n to kyaa hu_aa wo shaql to dikhaa gayaa

wo dostii to Kair ab nasiib\-e\-dushmanaa.N hu_ii
wo chhoTii chhotii ra.njisho.n kaa lutf bhii chalaa gayaa

judaa_iyo.n ke zaKm dard\-e\-zi.ndagii ne bhar diye
tujhe bhii nii.nd aa ga_ii mujhe bhii sabr aa gayaa

pukaaratii hai.n fursate.n kahaa.N ga_ii.n wo sohabate.n
zamii.n nigal ga_ii unhe.n yaa aasamaan khaa gayaa

ye subaho kii safediyaa.N ye dopahar kii zardiyaa.N
ab aa_iine me.n dekhataa huu.N mai.n kahaa.N chalaa gayaa

ye kis Kushii kii ret par Gamo.n ko nii.nd aa ga_ii
wo lahar kis taraf ga_ii ye mai.n kahaa.N chalaa gayaa

ga_e dino.n kii laash par pa.De rahoge kab talak
alamkasho uTho ki aafataab sar pe aa gayaa