गाना / Title: मधुर मधुर मेरे दीपक जल - madhur madhur mere diipak jal

चित्रपट / Film: non-Film

संगीतकार / Music Director: Jaidev

गीतकार / Lyricist: Mahadevi Verma

गायक / Singer(s): आशा भोसले-(Asha)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :



मधुर मधुर मेरे दीपक जल !
युग युग प्रतिदिन प्रतिक्षण प्रतिपल,
प्रियतम का पथ आलोकित कर !

सौरभ फैला विपुल धूप बन,
मृदुल मोम सा घुल रे मृदु तन;
दे प्रकाश का सिन्धु अपरिमित,
तेरे जीवन का अणु अणु गल !
पुलक पुलक मेरे दीपक जल !

सारे शीतल कोमल नूतन
माँग रहे तुझसे ज्वाला\-कण
विश्व\-शलभ सिर धुन कहता 'मैं
हाय न जल पाया तुझ में मिल' !
सिहर सिहर मेरे दीपक जल !

जलते नभ में देख असंख्यक,
स्नेहहीन नित कितने दीपक;
जलमय सागर का उर जलता,
विद्युत ले घिरता है बादल !
विहँस विहँस मेरे दीपक जल !

द्रुम के अंग हरित कोमलतम,
ज्वाला को करते हृदयंगम;
वसुधा के जड़ अंतर में भी,
बन्दी है तापों की हलचल !
बिखर बिखर मेरे दीपक जल !

मेरी निश्वासों से द्रुततर,
सुभग न तू बुझने का भय कर
मैं अँचल की ओट किये हूँ,
अपनी मृदु पलकों से चंचल !
सहज सहज मेरे दीपक जल !

सीमा ही लघुता का बंधन,
है अनादि तू मत घड़ियाँ गिन;
मैं दृग के अक्षय कोषों से
तुझ में भरती हूँ आँसू जल !
सजल सजल मेरे दीपक जल !

तम असीम तेरा प्रकाश चिर,
खेलेंगे नव खेल निरंतर;
तम के अणु अणु में विद्युत सा
अमिट चित्र अंकित करता चल !
सरल सरल मेरे दीपक जल !

तू जल जल जितना होता क्षय,
वह समीप आता छलनामय;
मधुर मिलन में मिट जाना तू
उसकी उज्ज्वल स्मित में घुल खिल !
मदिर मदिर मेरे दीपक जल !

प्रियतम का पथ आलोकित कर !


Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:

madhur madhur mere diipak jal !
yug yug pratidin pratixaN pratipal,
priyatam kaa path aalokit kar !

saurabh phailaa vipul dhuup ban,
mR^idul mom saa ghul re mR^idu tan;
de prakaash kaa sindhu aparimit,
tere jiivan kaa aNu aNu gal !
pulak pulak mere diipak jal !

saare shiital komal nuutan
maa.Ng rahe tujhase jvaalaa\-kaN
vishva\-shalabh sir dhun kahataa 'mai.n
haay na jal paayaa tujh me.n mil' !
sihar sihar mere diipak jal !

jalate nabh me.n dekh asa.nkhyak,
snehahiin nit kitane diipak;
jalamaya saagar kaa ur jalataa,
vidyut le ghirataa hai baadal !
viha.Ns viha.Ns mere diipak jal !

drum ke a.ng harit komalatam,
jvaalaa ko karate hR^idaya.ngam;
vasudhaa ke ja.D a.ntar me.n bhii,
bandii hai taapo.n kii halachal !
bikhar bikhar mere diipak jal !

merii nishvaaso.n se drutatar,
subhaga na tuu bujhane kaa bhay kar
mai.n a.Nchal kii oT kiye huu.N,
apanii mR^idu palako.n se cha.nchal !
sahaj sahaj mere diipak jal !

siimaa hii laghutaa kaa ba.ndhan,
hai anaadi tuu mat gha.Diyaa.N gin;
mai.n dR^ig ke axay koSho.n se
tujh me.n bharatii huu.N aa.Nsuu jal !
sajal sajal mere diipak jal !

tama asiim teraa prakaash chir,
khele.nge nava khel nira.ntar;
tama ke aNu aNu me.n vidyut saa
amiT chitra a.nkit karataa chal !
saral saral mere diipak jal !

tuu jal jal jitanaa hotaa xaya,
vah samiip aataa chhalanaamaya;
madhur milan me.n miT jaanaa tuu
usakii ujjvala smita me.n ghul khil !
madir madir mere diipak jal !

priyatama kaa path aalokit kar !