गाना / Title: कह दो इस रात से के रुक जाये - kah do is raat se ke ruk jaaye

चित्रपट / Film: The Loves Of Runa Laila (Non-Film)

संगीतकार / Music Director: ओ. पी. नय्यर-(O P Nayyar)

गीतकार / Lyricist: Noor Dewasi

गायक / Singer(s): Runa Laila

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



कह दो इस रात से के रुक जाये दर्द\-ए\-दिल मिन्नतों से सोया है
ये वोही दर्द है जिसे लेकर लैला तड़पी थी मजनू रोया है

मैं भी इस दर्द की पुजारन हूँ ये न मिलता तो कब की मर जाती
इसके एक एक हसीन मोती को रात दिन पलकों में पिरोया है

ये वोही दर्द है जिसे ग़ालिब जज़्ब करते थे अपनी ग़ज़लों में
मीर ने जबसे इसको अपनाया दामन\-ए\-ज़ीस्त को भिगोया है



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

kah do is raat se ke ruk jaaye dard\-e\-dil minnato.n se soyaa hai
ye wohii dard hai jise lekar lailaa ta.Dapii thii majanuu royaa hai

mai.n bhii is dard kii pujaaran huu.N ye na milataa to kab kii mar jaatii
isake ek ek hasiin motii ko raat din palako.n me.n piroyaa hai

ye wohii dard hai jise Gaalib jazb karate the apanii Gazalo.n me.n
miir ne jabase isako apanaayaa daaman\-e\-ziist ko bhigoyaa hai