गाना / Title: देखना क़िस्मत कि आप अपने पे रश्क आ जाये है - dekhanaa qismat ki aap apane pe rashk aa jaaye hai

चित्रपट / Film: गैर फ़िल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Mirza Ghalib

गायक / Singer(s): तलत महमूद-(Talat Mahmood)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



देखना क़िस्मत कि आप अपने पे रश्क आ जाये है
मैं उसे देखूँ भला कब मुझसे देखा जाये है

ग़ैर को या\-रब वो क्यूँ कर मना गुस्ताख़ी करें
गर हया भी उसको आती है तो शरमा जाये है

हो के आशिक़ वो परी\-रुख़ और नाज़ुक बन गया
रंग खुलता जाये है जितना के उड़ता जाये है

शौक़ को ये लत कि हरदम नाला खेंचे जाइये
दिल की वो हालत कि दम लेने से घबरा जाये है



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

dekhanaa qismat ki aap apane pe rashk aa jaaye hai
mai.n use dekhuu.N bhalaa kab mujhase dekhaa jaaye hai

Gair ko yaa\-rab wo kyuu.N kar manaa gustaaKii kare.n
gar hayaa bhii usako aatii hai to sharamaa jaaye hai

ho ke aashiq wo parii\-ruK aur naazuk ban gayaa
ra.ng khulataa jaaye hai jitanaa ke u.Dataa jaaye hai

shauq ko ye lat ki haradam naalaa khe.nche jaa_iye
dil kii wo haalat ki dam lene se ghabaraa jaaye hai