गाना / Title: कभी कहा न किसी से तेरे फ़साने को - kabhii kahaa na kisii se tere fasaane ko

चित्रपट / Film: गैर फ़िल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Qamar Jalalvi

गायक / Singer(s): Runa Laila

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



कभी कहा न किसी से तेरे फ़साने को
न जाने कैसे ख़बर हो गई ज़माने को

सुना है ग़ैर की महफ़िल में तुम न जाओगे
कहो तो आज सजा लूँ गरीबखाने को

दुआ बहार की मांगी तो इतने फूल खिले
कहीं  जगह  न  मिली मेरे आशियाने को

अब आगे इस में  तुमहारा  भी नाम आए गा
जो हुकम हो तो यहीं छोड़ दूं फ़साने को

'Qअमर' ज़रा भी नहीं तुम को ख़ौफ़\-ए\-रुसवाई
चले हो चांदनी शब में उन्हें बुलाने को



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

kabhii kahaa na kisii se tere fasaane ko
na jaane kaise Kabar ho ga_ii zamaane ko

sunaa hai Gair kii mahafil me.n tum na jaa_oge
kaho to aaj sajaa luu.N gariibakhaane ko

duaa bahaar kii maa.ngii to itane phuul khile
kahii.n  jagah  na  milii mere aashiyaane ko

ab aage is me.n  tumahaaraa  bhii naam aae gaa
jo hukam ho to yahii.n chho.D duu.n fasaane ko

'Qamar' zaraa bhii nahii.n tum ko Kauf\-e\-rusavaa_ii
chale ho chaa.ndanii shab me.n unhe.n bulaane ko