गाना / Title: सोचता हूँ कि पियूँ ... सावन के महीने में - sochataa huu.N ki piyuu.N ... saavan ke mahiine me.n

चित्रपट / Film: Sharaabi

संगीतकार / Music Director: मदन मोहन-(Madan Mohan)

गीतकार / Lyricist: Rajinder Krishan

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



सोचता हूँ कि पियूँ पियूँ न पियूँ
टाक दामन के सियूँ सियूँ न सियूँ
देख कर जाम कशमकश में हूँ
क्या करूँ मैं जियूँ जियूँ हाय! न जियूँ

सावन के महीने में
इक आग सी सीने में
लगती है तो पी लेता हूँ
दो चार घड़ी जी लेता हूँ
सावन के महीने में

चाँद की चाल भी है बहकी हुई
रात की आँख भी शराबी है
सारी कुदरत नशे में है चूर
अरे मैं ने पी ली तो क्या खराबी है
सावन के महीने में ...



बरसों छलकाये मैं ने
ये शीशे और ये प्याले
कुछ आ ज पिला दे ऐसी
जो मुक्जह्को ही पी डाले
हर रोज़ तो यूँ ही दिल को
बहका के मैं पी लेता हूँ
दो चार घड़ी जी लेता हूँ ...

लम्बे जीवन से अच्चा
वो इक पल जो अपना हो
उस पल के बाद ये दुनिया
क्या ग़म है अगर सपना हो
कुछ सोच के ऐसी बातें
घबरा के मैं पी लेता हूँ
दो चार घड़ी जी लेता हूँ ...

मैखाने में आया हूँ
मौसम का इशारा पा के
दम भर के लिये बैठा हूँ
रंगीन सहारा पा के
साथी जो तेरी ज़िद्द् है तो
शरमा के मैं पी लेता हूँ
दो चार घड़ी जी लेता हूँ ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

sochataa huu.N ki piyuu.N piyuu.N na piyuu.N
Taak daaman ke siyuu.N siyuu.N na siyuu.N
dekh kar jaam kashamakash me.n huu.N
kyaa karuu.N mai.n jiyuu.N jiyuu.N haay! na jiyuu.N

saavan ke mahiine me.n
ik aag sii siine me.n
lagatii hai to pii letaa huu.N
do chaar gha.Dii jii letaa huu.N
saavan ke mahiine me.n

chaa.Nd kii chaal bhii hai bahakii huii
raat kii aa.Nkh bhii sharaabii hai
saarii kudarat nashe me.n hai chuur
are mai.n ne pii lii to kyaa kharaabii hai
saavan ke mahiine me.n ...



baraso.n chhalakaaye mai.n ne
ye shiishe aur ye pyaale
kuchh aa j pilaa de aisii
jo mukjahko hii pii Daale
har roz to yuu.N hii dil ko
bahakaa ke mai.n pii letaa huu.N
do chaar gha.Dii jii letaa huu.N ...

lambe jiivan se achchaa
vo ik pal jo apanaa ho
us pal ke baad ye duniyaa
kyaa Gam hai agar sapanaa ho
kuchh soch ke aisii baate.n
ghabaraa ke mai.n pii letaa huu.N
do chaar gha.Dii jii letaa huu.N ...

maikhaane me.n aayaa huu.N
mausam kaa ishaaraa paa ke
dam bhar ke liye baiThaa huu.N
ra.ngiin sahaaraa paa ke
saathii jo terii zidd.h hai to
sharamaa ke mai.n pii letaa huu.N
do chaar gha.Dii jii letaa huu.N ...