गाना / Title: लकड़ी जल कोयला ... बेदर्द ज़माना क्या जाने - laka.Dii jal koyalaa ... bedard zamaanaa kyaa jaane

चित्रपट / Film: Bedard Zamaanaa Kyaa Jaane

संगीतकार / Music Director: कल्याणजी आनंदजी-(Kalyanji Anandji)

गीतकार / Lyricist: भरत व्यास-(Bharat Vyas)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



लकड़ी जल कोयला भई कोयला जल भयो राख
मैं पापिन ऐसी जली कोयला भई ना राख

कोई आँसू पी कर जीता है कोई टूटे दिल को सीता है
कहीं शाम ढले कहीं चिता जले कहीं ग़म से तड़पते दीवाने
बेदर्द ज़माना क्या जाने \-२

ओ मालिक तेरा कैसा आलम
यहाँ एक ख़ुशी तो लाख हैं ग़म
बारात कहीं तो कहीं मातम
क़िस्मत के अनोखे अफ़साने
बेदर्द ज़माना क्या ...

काँप उठा सिंदूर माँग का वो सुहागन की रात ढली
रानी बन कर आई थी वो आज भिखारिन बन के चली
छूटा है घर जाए किधर अपने भी हुए बेगाने
बेदर्द ज़माना क्या ...

उस शाम का होगा सवेरा कहाँ
ये पंछी लेगा बसेरा कहाँ
ये पवन है अगन और गरज़ता गगन
धरती भी लगी अब ठुकराने
बेदर्द ज़माना क्या ...

ज़ालिम को अपने ज़ुल्मों की होती कभी पहचान भी है
इन्सान तेरी आँखों में भगवान भी है शैतान भी है
कश्ती से किनारा रूठ गया
ये धकेलती है लहर और आगे
साया भी नहीं अब पहचाने
बेदर्द ज़माना क्या ...

चिंगारी से चिंगारी जले और आग से आग सुलगती है
ये बात सरासर सच्ची है कि चोट से चोट लगती है
जिन हाथों में मोतियों की लड़ियाँ
उन्में पड़ी हैं हथकड़ियाँ
अपना ही भाग लगा है आग लगाने
बेदर्द ज़माना क्या ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

laka.Dii jal koyalaa bha_ii koyalaa jal bhayo raakh
mai.n paapin aisii jalii koyalaa bha_ii naa raakh

ko_ii aa.Nsuu pii kar jiitaa hai ko_ii TuuTe dil ko siitaa hai
kahii.n shaam Dhale kahii.n chitaa jale kahii.n Gam se ta.Dapate diivaane
bedard zamaanaa kyaa jaane \-2

o maalik teraa kaisaa aalam
yahaa.N ek Kushii to laakh hai.n Gam
baaraat kahii.n to kahii.n maatam
qismat ke anokhe afasaane
bedard zamaanaa kyaa ...

kaa.Np uThaa si.nduur maa.Ng kaa vo suhaagan kii raat Dhalii
raanii ban kar aa_ii thii vo aaj bhikhaarin ban ke chalii
chhuuTaa hai ghar jaa_e kidhar apane bhii hu_e begaane
bedard zamaanaa kyaa ...

us shaam kaa hogaa saveraa kahaa.N
ye pa.nchhii legaa baseraa kahaa.N
ye pavan hai agan aur garazataa gagan
dharatii bhii lagii ab Thukaraane
bedard zamaanaa kyaa ...

zaalim ko apane zulmo.n kii hotii kabhii pahachaan bhii hai
insaan terii aa.Nkho.n me.n bhagavaan bhii hai shaitaan bhii hai
kashtii se kinaaraa ruuTh gayaa
ye dhakelatii hai lahar aur aage
saayaa bhii nahii.n ab pahachaane
bedard zamaanaa kyaa ...

chi.ngaarii se chi.ngaarii jale aur aag se aag sulagatii hai
ye baat saraasar sachchii hai ki choT se choT lagatii hai
jin haatho.n me.n motiyo.n kii la.Diyaa.N
unme.n pa.Dii hai.n hathaka.Diyaa.N
apanaa hii bhaag lagaa hai aag lagaane
bedard zamaanaa kyaa ...