गाना / Title: बेख़बर जाग ज़रा ... किसकी औलाद है तू - beKabar jaag zaraa ... kisakii aulaad hai tuu

चित्रपट / Film: Pahele Aap/ Prestige

संगीतकार / Music Director: नौशाद अली-(Naushad)

गीतकार / Lyricist: D N Madhok

गायक / Singer(s): ShamRafi Sham

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



बेख़बर जाग ज़रा, बेख़बर जाग ज़रा
बेख़बर जाग ज़रा, बेख़बर जाग ज़रा

किसकी औलाद है तू इतनी ख़बर है के नहीं
आज भी क़दमों में तेरे ये झुकी जाए ज़मीं
क्योंके ये तेरी है हर ज़र्रा है इसका तेरा
बेख़बर जाग ज़रा ...

बुल्बुलें आज भ्ही बाग़ों में यही गाती हैं
हाए कया शान थी नवबों की दुहराती हैं
सुन के जो फूल खिला झूम के ये कहने लगा
बेख़बर जाग ज़रा ...

राज्पूतों की शुजात की कहानी सुन ले
कौन थे तेरे बड़े मेरी ज़ुबानी सुन ले
उनकी औलाद से मुझ को है बस इतना शिक्वा
बेख़बर जाग ज़रा ...

जंग में मिर्ज़ा क़क्लन्दर अलि खन का जाना
क़हर बरसाना था दुशमन पे क़यामत ढाना
हाए वो जोश नवाबों की रगों में ना रहा
बेख़बर जाग ज़रा ...

कौन रज्पूत का जाया कभी मदहोश हुआ
जाग ओ ऊंचे निशां वाले तू बेहोश हुआ
उड़ गई सोने की चिड़िया रहा ख़ाली पिन्ज्रा
बेख़बर जाग ज़रा /थ्रेएदोत्स

फूट आपस में पड़ी घर तेरा बरबाद हुआ
तेरी बर्बादी पे दुशमन तेरा अबाद हुआ
होश कर अब तो गले भाई के भाई लग जा
बेख़बर जाग ज़रा ...

मुझे दिन रात लगी तेरे जगाने की है धुन
मादर\-ए\-हिन्द के लाडों पले कुछ मेरी भी सुन
तेज़\-रफ़तार ज़माने से क़दम उठ के मिला
बेख़बर जाग ज़रा ...

आज हर मुल्क के सोए हुए बेदार हुए
तिफ़्ल जो घुटनों के बल चलते थे हुश्यार हुए
मगर ओ नींद के मतवाले तू सोया हि रहा
बेख़बर जाग ज़रा ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

beKabar jaag zaraa, beKabar jaag zaraa
beKabar jaag zaraa, beKabar jaag zaraa

kisakii aulaad hai tuu itanii Kabar hai ke nahii.n
aaj bhii qadamo.n me.n tere ye jhukii jaa_e zamii.n
kyo.nke ye terii hai har zarraa hai isakaa teraa
beKabar jaag zaraa ...

bulbule.n aaj bhhii baaGo.n me.n yahii gaatii hai.n
haa_e kayaa shaan thii nawabo.n kii duharaatii hai.n
sun ke jo phuul khilaa jhuum ke ye kahane lagaa
beKabar jaag zaraa ...

raajpuuto.n kii shujaa_t kii kahaanii sun le
kaun the tere ba.De merii zubaanii sun le
unakii aulaad se mujh ko hai bas itanaa shikwaa
beKabar jaag zaraa ...

ja.ng me.n mirzaa qaklandar ali khan kaa jaanaa
qahar barasaanaa thaa dushaman pe qayaamat Dhaanaa
haa_e vo josh nawaabo.n kii rago.n me.n naa rahaa
beKabar jaag zaraa ...

kaun rajpuut kaa jaayaa kabhii madahosh hu_aa
jaag o uu.nche nishaa.n waale tuu behosh hu_aa
u.D ga_ii sone kii chi.Diyaa rahaa Kaalii pinjraa
beKabar jaag zaraa /threedots

phuuT aapas me.n pa.Dii ghar teraa barabaad hu_aa
terii barbaadii pe dushaman teraa abaad hu_aa
hosh kar ab to gale bhaa_ii ke bhaa_ii lag jaa
beKabar jaag zaraa ...

mujhe din raat lagii tere jagaane kii hai dhun
maadar\-e\-hind ke laaDo.n pale kuchh merii bhii sun
tez\-rafataar zamaane se qadam uTh ke milaa
beKabar jaag zaraa ...

aaj har mulk ke so_e hu_e bedaar hu_e
tifl jo ghuTano.n ke bal chalate the hushyaar hu_e
magar o nii.nd ke matawaale tuu soyaa hi rahaa
beKabar jaag zaraa ...