गाना / Title: शबाब\-ए\-रफ़्ता की अब कोई यादगार नहीं - shabaab\-e\-raftaa kii ab ko_ii yaadagaar nahii.n

चित्रपट / Film: Best Of Ghulam Ali (Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist:

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



शबाब\-ए\-रफ़्ता की अब कोई यादगार नहीं
बहार में भी वो रंगीनी\-ए\-बहार नहीं

कभी हयात की ज़ामिन कभी वसीला\-ए\-मर्ग
निगाह\-ए\-दोस्त तेरा कोई एतबार नहीं

बहार अस्ल में होती है दिल की शादाबी
नज़र के सामने जो कुछ है वो बहार नहीं

तेरे जमाल का जब तक न इज़्नु मिल जाये
किसी चराग़ को जलने का इख़्तियार नहीं

हयात में कोई तूफ़ान आने वाला है
बहुत दिनों से कोई मौज बेक़रार नहीं

वो अब भी मुझसे हैं नाराज़ क्या करूँ 'राना'
सलाम करने का उनको गुनाहगार नहीं



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

shabaab\-e\-raftaa kii ab ko_ii yaadagaar nahii.n
bahaar me.n bhii wo ra.ngiinii\-e\-bahaar nahii.n

kabhii hayaat kii zaamin kabhii wasiilaa\-e\-marg
nigaah\-e\-dost teraa ko_ii etabaar nahii.n

bahaar asl me.n hotii hai dil kii shaadaabii
nazar ke saamane jo kuchh hai wo bahaar nahii.n

tere jamaal kaa jab tak na iznu mil jaaye
kisii charaaG ko jalane kaa iKtiyaar nahii.n

hayaat me.n ko_ii tuufaan aane waalaa hai
bahut dino.n se ko_ii mauj beqaraar nahii.n

wo ab bhii mujhase hai.n naaraaz kyaa karuu.N 'raanaa'
salaam karane kaa unako gunaahagaar nahii.n