गाना / Title: इश्क़ में जलते रहे कल जो चराग़ों की तरह - ishq me.n jalate rahe kal jo charaaGo.n kii tarah

चित्रपट / Film: गैर फ़िल्म-(Non-Film)

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Hameed

गायक / Singer(s): Bhupinder

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



इश्क़ में जलते रहे कल जो चराग़ों की तरह
ज़िंदगी उनकी है मंज़िल के सुराग़ों की तरह

अश्क़ आँखों में चमकते हैं सितारे बन कर
और जम जाते हैं पलकों पे ये दाग़ों की तरह

मैं भी इक ताजमहल अपना बनाऊँगा कभी
सोचता रहता हूँ शाहों के दिमाग़ों की तरह

उसने दानिस्ता अंधेरों में मुझे रखा है 'हमीद'
मैं भी जलता रहा हसरत से चराग़ों की तरह



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ishq me.n jalate rahe kal jo charaaGo.n kii tarah
zi.ndagii unakii hai ma.nzil ke suraaGo.n kii tarah

ashq aa.Nkho.n me.n chamakate hai.n sitaare ban kar
aur jam jaate hai.n palako.n pe ye daaGo.n kii tarah

mai.n bhii ik taajamahal apanaa banaa_uu.Ngaa kabhii
sochataa rahataa huu.N shaaho.n ke dimaaGo.n kii tarah

usane daanistaa a.ndhero.n me.n mujhe rakhaa hai 'hamiid'
mai.n bhii jalataa rahaa hasarat se charaaGo.n kii tarah