गाना / Title: बगिया के अमरूद कहें ... यह पूछ रहे हैं सारे - bagiyaa ke amaruud kahe.n ... yah puuchh rahe hai.n saare

चित्रपट / Film: Mere Sapnon Ki Raani

संगीतकार / Music Director: Anand Milind

गीतकार / Lyricist: देव कोहली-(Dev Kohli)

गायक / Singer(s): Sadhana Sargam

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



बगिया के अमरूद कहें और बोले मेरा तोता
यहां तेरा प्रीतम होता कितना अच्छा होता
गूंज रही है मेरे मन में शादी की शहनाई
जब से देखा आपको मैने नींद नहीं फिर आई
डोली लेकर कब आयेंगे प्रीतम मेरे द्वार
लग्न हमारा कब होगा यह पूछ रहे हैं सारे
बगिया के अमरूद कहें ...

बिना आपके व्याकुल रहता है यह ह्रदय मेरा
मुरझाया लगता है मुझको इन फूलों काअ चेहरा
जळी आना मिलने मुझसे मेरे मन के वासी
वरना ये फूलों की बेलें बन जाएंगी फांसी
सोच रहे हैं हाथ मेरे ये बातें कैसे लिखेंगे
कब तक बाट निहारेंगे कब तक धीरज रखेंगे
बागों की कलियां कहती हैं कि थक गए नैन हमारे
लग्न हमारा कब होगा ...

देख के पहली बार आपको आँखें झूम रही थीं
आपकी प्यारी सूरत को नज़रों से चूम रही थीं
तबसे लेकर अब तक हर पल इक इक युग लगता है
वैसे कौन किसी को इतने प्यार से खत लिखता है
कह दी है मन की बात और नहीं है कुछ कहना
पत्र में हो गलती कोई उसको आप क्षमा करना
नाम आपका तोता लेकर रोज पुकारे
लग्न हमारा कब होगा ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

bagiyaa ke amaruud kahe.n aur bole meraa totaa
yahaa.n teraa priitam hotaa kitanaa achchhaa hotaa
guu.nj rahii hai mere man me.n shaadii kii shahanaa_ii
jab se dekhaa aapako maine nii.nd nahii.n phir aa_ii
Dolii lekar kab aaye.nge priitam mere dvaar
lagn hamaaraa kab hogaa yah puuchh rahe hai.n saare
bagiyaa ke amaruud kahe.n ...

binaa aapake vyaakul rahataa hai yah hraday meraa
murajhaayaa lagataa hai mujhako in phuulo.n kaaa cheharaa
jaldii aanaa milane mujhase mere man ke vaasii
varanaa ye phuulo.n kii bele.n ban jaa_e.ngii phaa.nsii
soch rahe hai.n haath mere ye baate.n kaise likhe.nge
kab tak baaT nihaare.nge kab tak dhiiraj rakhe.nge
baago.n kii kaliyaa.n kahatii hai.n ki thak ga_e nain hamaare
lagn hamaaraa kab hogaa ...

dekh ke pahalii baar aapako aa.Nkhe.n jhuum rahii thii.n
aapakii pyaarii suurat ko nazaro.n se chuum rahii thii.n
tabase lekar ab tak har pal ik ik yug lagataa hai
vaise kaun kisii ko itane pyaar se khat likhataa hai
kah dii hai man kii baat aur nahii.n hai kuchh kahanaa
patr me.n ho galatii ko_ii usako aap xamaa karanaa
naam aapakaa totaa lekar roj pukaare
lagn hamaaraa kab hogaa ...