गाना / Title: अरे कुछ नहीं ... मैं हूँ प्रेम रोगी - are kuchh nahii.n ... mai.n huu.N prem rogii

चित्रपट / Film: Prem Rog

संगीतकार / Music Director: लक्ष्मीकांत - प्यारेलाल-(Laxmikant-Pyarelal)

गीतकार / Lyricist: Santosh Anand

गायक / Singer(s): सुरेश वाडकर-(Suresh Wadkar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



अरे कुछ नहीं, कुछ नहीं \-२
फिर कुछ नहीं है भाता जब रोग ये लग जाता
मैं हूँ प्रेम रोगी
हाँ मैं हूँ प्रेम रोगी मेरी दवा तो कराओ
मैं हूँ प्रेम रोगी मेरी दवा तो कराओ
ओ जाओ जाओ जाओ कोई वैध को बुआओ
मैं हूँ प्रेम रोगी

कुछ समझा कुछ समझ न पाया
दिल वाले का दिल भर आया
और कभी सोचा जायेगा
क्या कुछ खोया क्या कुछ पाया
जा तन लागे वो तन जाने \-२
ऐसी है इस रोग की माया
मेरी इस हालत को
हाँ मेरी इस हालत को नज़र ना लगाओ
ओ जाओ जाओ जाओ कोई वैध को बुआओ
मैं हूँ प्रेम रोगी

हो ओ ओऽ
सोच रहा हूँ जग क्या होता
इसमें अगर ये प्यार न होता
मौसम का एहसास न होता
गुल गुलशन गुलज़ार न होता
होने को कुछ भी होता पर \-२
ये सुंदर संसार न होता
मेरे इन ख़यालों में
मेरे इन ख़यालों में तुम भी डूब जाओ
जाओ जाओ जाओ कोई वैध को बुआओ
मैं हूँ प्रेम रोगी

यारो है वो क़िस्मत वाला
प्रेम रोग जिसे लग जाता है
सुख\-दुख का उसे होश नहीं है
अपनी लौ में रम जाता है
हर पल ख़ुद ही ख़ुद हँसता है
हर पल ख़ुद ही ख़ुद रोता है
ये रोग लाइलाज़ सही फिर भी कुछ कराओ
ओ जाओ जाओ जाओ
अरे जाओ जाओ जाओ मेरे वैध को बुआओ
मेरा इलाज कराओ
और नहीं कोई तो मेरे यार को बुलाओ
ओ जाओ जाओ जाओ मेरे दिलदार को बुलाओ
ओ जाओ जाओ जाओ मेरे यार को बुलाओ
मैं हूँ प्रेम रोगी



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

are kuchh nahii.n, kuchh nahii.n \-2
phir kuchh nahii.n hai bhaataa jab rog ye lag jaataa
mai.n huu.N prem rogii
haa.N mai.n huu.N prem rogii merii dawaa to karaao
mai.n huu.N prem rogii merii dawaa to karaao
o jaao jaao jaao ko_ii vaidh ko buaao
mai.n huu.N prem rogii

kuchh samajhaa kuchh samajh na paayaa
dil waale kaa dil bhar aayaa
aur kabhii sochaa jaayegaa
kyaa kuchh khoyaa kyaa kuchh paayaa
jaa tan laage wo tan jaane \-2
aisii hai is rog kii maayaa
merii is haalat ko
haa.N merii is haalat ko nazar naa lagaao
o jaao jaao jaao ko_ii vaidh ko buaao
mai.n huu.N prem rogii

ho o o.a
soch rahaa huu.N jag kyaa hotaa
isame.n agar ye pyaar na hotaa
mausam kaa ehasaas na hotaa
gul gulashan gulazaar na hotaa
hone ko kuchh bhii hotaa par \-2
ye su.ndar sa.nsaar na hotaa
mere in Kayaalo.n me.n
mere in Kayaalo.n me.n tum bhii Duub jaao
jaao jaao jaao ko_ii vaidh ko buaao
mai.n huu.N prem rogii

yaaro hai wo qismat waalaa
prem rog jise lag jaataa hai
sukh\-dukh kaa use hosh nahii.n hai
apanii lau me.n ram jaataa hai
har pal Kud hii Kud ha.Nsataa hai
har pal Kud hii Kud rotaa hai
ye rog laa_ilaaz sahii phir bhii kuchh karaao
o jaao jaao jaao
are jaao jaao jaao mere vaidh ko buaao
meraa ilaaj karaao
aur nahii.n ko_ii to mere yaar ko bulaao
o jaao jaao jaao mere diladaar ko bulaao
o jaao jaao jaao mere yaar ko bulaao
mai.n huu.N prem rogii